भारत के पूर्व राष्ट्रपति और अंतरिक्ष वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम के सम्मान में नासा ने अपने वैज्ञानिकों के द्वारा खोजे गए एक नए जीव को अब्दुल कलाम का नाम दिया है. बैक्टेरिया को सोलीबैकिलस कलामी नाम दिया गया है.

ये बैक्टेरिया धरती से 400 किलोमीटर दूर तरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS)  में पाया गया है. अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के फिल्टरों में इस नए बैक्टेरिया को खोजा है. वैज्ञानिकों का मानना है कि ये बैक्टेरिया धरती पर नहीं पाया जाता लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है कि ये धरती से ही अंतरिक्ष यान में गया और फिर स्पेस के मुताबिक खुद को ढाल लिया.

और पढ़े -   अमेरिका और ब्रिटेन ने सीरिया में आतंकियों को दिए ज़हरीले बमः रूस

नासा की जेट प्रोपल्शन लैबोरेटरी ने अंतरग्रही यात्रा पर काम करते हुए अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के फिल्टरों में इस नए बैक्टीरिया को खोजा और भारत के पूर्व राष्ट्रपति कलाम के सम्मान में इसे नाम दिया. याद रहे 1963 में कलाम ने शुरुआती ट्रेनिंग नासा में ली थी. इसके बाद उन्होंने केरल के थुंबा में मछुआरों के गांव में भारत का पहला रॉकेट प्रक्षेपण केंद्र स्थापित किया था.

और पढ़े -   तुर्की सीरियाई हाजियों की मदद के लिए आगे आया

जेपीएल में जैव प्रौद्योगिकी एवं ग्रह सुरक्षा समूह के वरिष्ठ अनुसंधान वैज्ञानिक डॉक्टर कस्तूरी वैंकटस्वर्ण ने बताया, ‘बैक्टीरिया का नाम सोलीबैकिलस कलामी है. इस प्रजाति का नाम डॉक्टर अब्दुल कलाम के नाम पर रखा गया है और इसके जीन का नाम सोलीबैकिलस है.’ यह बैक्टीरिया एक ऐसे फिल्टर पर पाया गया है, जो ISS में 40 महीने तक रहा था। यह फिल्टर ISS की स्वच्छता प्रणाली का हिस्सा है.

और पढ़े -   शाह सलमान ने कत्तरी हाजियों के लिए सलवा बॉर्डर को खोलने का दिया आदेश

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE