उत्तर कोरिया ने शनिवार को दावा किया कि उसके पास अब अमेरिका पर परमाणु हमला कर उसे राख़ में मिलाने की क्षमता हासिल हो गई है। उत्तर कोरिया ने इसके लिए इंटर कॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) के कामयाब परीक्षण को आधार बताया है।

‘कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी’ (केसीएनए) के हवाले से दी गई इंजन के जमीनी परीक्षण की खबर में अगर सच्चाई है तो यह उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार कार्यक्रम की दिशा में एक बड़ा कदम होगा। इस साल के शुरू में उत्तर कोरिया ने चौथा परमाणु परीक्षण करने का दावा किया था। लेकिन हक़ीक़त ये है कि उत्तर कोरिया को अमेरिकी सरज़मीं को परमाणु मिसाइलों से निशाना बनाने से पहले अब भी बहुत ग्राउंड वर्क करना है। दक्षिण कोरिया के अधिकारियों का कहना है कि अभी तक उत्तर कोरिया के पास भरोसेमंद इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल ही नहीं है, इसे परमाणु मुखास्त्रों से लैस करना तो बहुत दूर की बात है।

उत्तर कोरिया की आधिकारिक समाचार एजेंसी केसीएनए ने इस परीक्षण की घोषणा की थी, जो देश के परीक्षणों की कड़ी में ताजा घटना है। अमेरिका और उसके सहयोगी उत्तर कोरियाई की इस कार्रवाई को उकसावे वाला कार्य मानते हैं। परीक्षण कब हुआ इस बारे में केसीएनए ने नहीं बताया। एजेंसी ने देश के शीर्ष नेता के हवाले से कहा कि अब उत्तर कोरिया अपने हमला क्षेत्र से शत्रुओं पर और अधिक शक्तिशाली परमाणु हथियारों से हमले कर सकता है और ब्रह्मांड से उनका नामोनिशान मिटा सकता है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उत्तर कोरिया की किसी भी बैलिस्टिक गतिविधियों पर रोक लगाई है, जिसका उल्लंघन करते हुए उत्तर कोरिया ने पिछले महीने ही मध्यम-दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल का प्रक्षेपण किया था। वर्ष 2014 के बाद उत्तर कोरिया का यह पहला मध्यम-दूरी का मिसाइल प्रक्षेपण था।

अमेरिका में विदेश विभाग के प्रवक्ता मार्क टोनर ने उत्तर कोरिया से ‘इस तरह की कार्रवाई से बचने और क्षेत्र को अस्थिर करने वाली बयानबाजी से बचने के लिए कहा है। साथ ही नसीहत दी है कि उत्तर कोरिया को अपनी प्रतिबद्धताओं एवं अंतरराष्ट्रीय दायित्वों को पूरा करने की दिशा में ठोस कदम उठाने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। (hindi.news24online.com)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें