my

म्यांमार सरकार ने शांति वार्ता में विद्रोहियों को शामिल होने की अनुमति दे दी हैं वहीँ दूसरी तरफ  रोहिंग्या मुसलमानों के प्रतिनिधि को भाग लेने से मना कर दिया गया है।

फ़्रांसीसी टीवी चैनल-24 के अनुसार म्यांमार की विदेश मंत्री आंग सान सूची ने कहा था कि वह इस बात की पूरी कोशिश करेंगी कि बुधवार को शुरु हो रहे शांति सम्मेलन में सभी संप्रदाय के नेता भाग लें. इस 4 दिवसीय वार्ता में विद्रोहियों के प्रतिनिधि भी शामिल हैं।

और पढ़े -   अमेरिका के नए प्रतिबंध परमाणु समझौते का कर रहे है उल्लंघन: ईरान

बुधवार को होने वाली शांति वार्ता में संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून भी शामिल हो चुके हैं। इस दौरान उन्होंने म्यांमार में मुसलमान अल्पसंख्यकों के अधिकार पर ध्यान देने की मांग की है।

गौरतलब रहें कि म्यांमार में 2012 में रोहिंग्या मुसलमानों के ख़िलाफ़ चरमपंथी बौद्धधर्मियों के घातक हमलों के बाद कई लाख मुसलमान पश्चिमी म्यांमार में शरणार्थी कैंपों में रहने पर मजबूर हैं।

और पढ़े -   क़तर संकट को हल करने के मकसद से एर्दोगान पहुंचे सऊदी अरब

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE