कुवैत की सिक्योरिटी कंपनी अल-लेवा में काम करने वाले युवक मुकेश कुमार को नौकरी से निकाल दिया गया है. दरअसल मुकेश ने भारत में रह रहे मुस्लिमों को फेसबुक के जरिए गुजरात दंगों का उदाहरण देकर हिंसा की धमकी दी थी.

फेसबुक पर की गई पोस्ट में उसने मुस्लिमों के बहिष्कार की भी मांग की. उसने लिखा कि जितने फुटपाथ पर कॉस्मेटिक सामान बेचने वाले मुसलमान लोग हैं उनकी दुकान से सामान खरीदना बंद कर दिया जाए. हालांकि इस दौरान वह भूल गया कि जिस मुल्क में काम करने से उसका और उसके परिवार का पेट भर रहा है वह भी एक इस्लामिक मुल्क है.

और पढ़े -   मीडिया पर ढेरों पाबंदी, फिर भी पश्चिम के लिए इजरायल एक लोकतांत्रिक देश

उसने अपनी पोस्ट में मुल्लों शब्द का इस्तेमाल करते हुए बंगाल में दोबारा 2002 का गोधरा दोहराने की धमकी दी. जिसका सीधा तात्पर्य मुस्लिमों के खिलाफ बड़े पैमाने पर हिंसा है.

कंपनी ने मामलें को गंभीरता से लेते हुए मुकेश को तत्काल नौकरी से बर्खास्त्त कर दिया. माना जा रहा है मुकेश की जल्द ही कुवैत से भी निकाला जा सकता है.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमो पर आंग सान सु ने तोड़ी चुप्पी कहा, रोहिंग्या म्यांमार में आतंकी हमलो में शामिल, अन्तराष्ट्रीय दबाव नही झुकेंगे

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE