क़तर के साथ रिश्तें तोड़ने के साथ ही सऊदी अरब ने अब इस्लामिक मामलो विशेषकर इबादतों में भी राजनीति करनी शुरू कर दी है. सऊदी अरब से जारी एक विवादित फतवे में कहा गया कि इस साल क़तर के किसी भी मुसलमान का रोजा कबूल नही होगा.

सऊदी मुफ्ती शेख जमआन अज़्ज़ब ने फतवा जारी कर कहा कि क़तर के मुसलमानों के रोजे कबूल नहीं होंगे क्योंकि उन्होंने इश्वरीय शासक ” की आज्ञा का पालन नहीं किया है.

और पढ़े -   जानिए: 1967 से मस्जिदुल अक़्सा पर होने वाले प्रमुख इस्राईली हमलो की जानकारी

मुफ्ती ने कहा कि क़तर के लोगों के रोजे जब तक अधूरे रहेंगे कि वे सऊदी अरब से माफी नहीं मांगते और सऊदी अरब इस माफी को कबूल नहीं कर लेता.

मुफ्ती शेख जमआन अज़्ज़ब ने आगे कहा कि सऊदी अरब का विरोध, महिलाओं की माहवारी और बच्चे पैदा करने जैसा है कि जिसके दौरान रोज़ा सही से नहीं होता. उन्होंने तत्काल क़तर को सऊदी अरब से माफ़ी मांगने को कहा है.

और पढ़े -   सऊदी अरब की गठबंधन सेना ने यमन पर किया हवाई हमला, 41 नागरिक हताहात

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE