ब्रिटेन के शहर ग्लासगो में असद शाह नाम के व्यक्ति को एक कट्टरपंथी ने 30 बार चाकू से गोद डाला। उसका कसूर सिर्फ इतना था कि उसने अपने क्रिश्चियन दोस्‍तों को ‘ईस्‍टर की बधाई’ दी थी। असद शाह ग्लासगो में दुकान चलाते थे। उन्हें पड़ोसियों के बीच काफी शांतिप्रिय और दोस्ताना शख्स के तौर पर जाना जाता था।

asad shah Britain

उन्होंने अपने ईसाई दोस्तों को ईस्टर पर बधाई दी थी। अपने बधाई संदेश में असद ने जीसस की जिंदगी और स्कॉटलैंड की प्रशंसा की थी। बस यही बात कुछ कट्टरपंथियों को नागवार गुजरी। हमला करने वाले शख्‍स का नाम मोहम्मद फैजल है, उसकी 32 वर्ष बताई जा रही है, जबकि असद शाह 40 साल थे।

और पढ़े -   फ़्रांसीसी राष्ट्रपति ने की मुस्लिमों की तारीफ़, कहा - आतंक के खिलाफ निभाई सराहनीय भूमिका

पुलिस ने हमलावर को गिरफ्तार कर लिया है। हैरानी की बात यह है कि असद की हत्‍या करने वाला शख्‍स उनकी पारिवारिक मित्र है। पुलिस का कहना है कि दुकान में दाखिल होने के बाद दोनों के बीच बहस हुई थी। हमलावर का कहना था कि असद ने ईस्टर पर बधाई क्यों दी? बहस के दौरान ही वह चाकू से वार करने लगा।

और पढ़े -   डोनाल्ड ट्रम्प ने दिया भारतीयों को बड़ा झटका, 3 लाख इंडियन निकाले जाएंगे अमेरिका से बाहर

असद शाह के भाई ने बताया कि जब फैजल ने हमला किया तो शोर सुनकर वह भागा। उसने हमलावर को हटाने की बहुत कोशिश की, लेकिन वह असद के सीने पर वार करता रहा। असद शाह ने मौत से पहले जो अंतिम पोस्‍ट डाली थी, उसमें उन्‍होंने लिखा था, ‘गुड फ्राइडे, वैरी हैप्‍पी ईस्‍टर, खासतौर पर मेरे प्‍यारे क्रिश्चियन राष्‍ट्र के लिए। चलो जीसस क्राइस्‍ट के दिखाए रास्‍ते पर चलें।’ इससे पहले असद ने ब्रसेल्‍स में हुए आतंकी हमले के बारे में भी फेसबुक पेज पर लिखा था।

और पढ़े -   सऊदी बादशाह ने मुहम्मद बिन सलमान को दिया क्राउन प्रिंस का ओहदा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE