sunni imam sheikh zaindine johnson 620x400

क्वीन्सलैंड | हाल ही में मिश्र के एक मौलवी का बयान काफी सुर्खियों में रहा था. अपने बयान में मौलवी ने मुस्लिम पुरुष का अपनी नाजायज बेटी के साथ सेक्स और शादी करना जायज ठहराया था. उसने कहा की चूँकि नाजायज बेटी को अधिकारी तौर पर अपने पिता का नाम नही मिलता इसलिए इस्लाम में नाजायज बेटी के साथ सेक्स और शादी जायज है. अब ऑस्ट्रेलिया के एक मौलवी ने भी बड़ा अजीबोगरीब बयान दिया है.

इनका मानना है की अगर महिलाओ का यौन शोषण होता है तो इसके लिए खुद महिलाए जिम्मेदार है. क्योकि महिलाओं का खुलापन मर्दों को बेकाबू कर देता है. ऑस्ट्रेलिया के क्वीन्सलैंड के मुस्लिम धार्मिक गुरु शेख जेन्नादीन ने अपने फेसबुक पेज लिखा है की महिलाओं को हिजाब पहनना चाहिए जिससे की मर्द खुद पर काबू रख सके. शेख ने हॉलीवुड निर्माता हार्वे वेंसटिन के यौन शोषण मामले में फंसने के बाद यह सलाह दी है.

शेख ने पोस्ट में लिखा,’ मर्दों को खुद को नियंत्रित करने में सक्षम होना चाहिए. यह इस्लामिक हिजाब के खिलाफ एक आम बहस है. मैं पूरी तरह से सहमत हूं कि उन्हें अपने आपको कंट्रोल करने में सक्षम होना चाहिए. हालांकि, तथ्य बताते हैं कि ऐसा नहीं हो रहा है. इसलिए महिलाओ के लिए हिजाब जरुरी है. हॉलीवुड को इस तरह के एक्सपोज करना जारी रखे. देखते है अगला नंबर किसका है?’

शेख इससे पहले कह चुके है की महिलाओं को कंगन पहनकर सार्वजानिक जगहों पर नही निकलना चाहिए. अगर वो कंगन पहनती है या फिर खुद को खूबसूरत दिखाने की कोशिश करती है तो यह उन्हें घर में ही करना चाहिए या फिर यह सब हिजाब में ढका होना चाहिए. वो यह सब अपने पति के सामने कर सकती है. इसमें कोई दिक्कत नही है. शेख से पहले  सिडनी के पूर्व ग्रांड मुफ्ती शेख ताज-इल-दीन अल हिलाली ने कहा था की जो महिलाए हिजाब ने ही पहनती तो खुले मांस की तरह होती है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE