ईरान के इस्लामी क्रान्ति संरक्षक बल आईआरजीसी के प्रमुख ने कहा है कि इस्राई द्वारा क़ब्ज़ा किए गए फ़िलिस्ंतीनी क्षेत्र इस्लामी गणतंत्र ईरान के बहुत से मिज़ाइलों की रेंज में हैं।

ईरान के अधिकतर मिज़ाइलों की रेंज में हैं इस्राईली क्षेत्र

जनरल मोहम्मद अली जाफ़री ने मंगलवार को बड़े पैमाने पर मिज़ाइल अभ्यास के अंतिम चरण के अवसर पर कहा कि जिसे ईरान से अधिक दुशमनी है उसके भीतर इन मिज़ाइलों का अधिक ख़ौफ़ भी होगा।

आईआरजीसी के एयरोस्पेस डिविजन ने मंगलवार को बैलेस्टिक मिज़ाइल अभ्यास के अंतिम चरण का आयोजन देश के विभिन्न भागों में किया। इस अभ्यास का लक्ष्य ईरान की प्रतिरोधक क्षमता का प्रदर्शन करना है।

शहाब तथा क़द्र नामक मिज़ाइलों का इस दौरान सफलता पूर्वक प्रयोग किया गया और इन मिज़ाइलों ने अपने लक्ष्यों को ध्वस्त कर दिया।

उधर वाइट हाउस के प्रवक्ता जाश अरनेस्ट ने कहा कि ईरान के बैलेस्टिक मिज़ाइलों के परीक्षण से छह शक्तियों के साथ ईरान के परमाणु समझौते का उल्लंघन नहीं हुआ है।

आईआरजीसी के प्रमुख जनरल जाफ़री ने कहा कि रक्षा शक्ति तथा राष्ट्रीय सुरक्षा ईरान की रेड लाइनें हैं जिनपर किसी भी प्रकार का समझौता नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि मिज़ाइल का फ़ायर किया जाना ईरान के उन शत्रुओं का मुंह तोड़ जवाब है जिन्होंने ईरान के मिज़ाइल कार्यक्रम पर प्रतिबंध लगाए थे।

उन्होंने बल देकर कहा कि प्रतिबंधों के कारण ईरान और तेज़ी से अपना मिज़ाइल कार्यक्रम आगे बढ़ाने में सफल हुआ तथा पूरी तरह आत्म निर्भर हो गया। जनरल जाफ़री ने बल देकर कहा कि शत्रुओं के प्रतिबंध और दबाव ईरान की मिज़ाइल क्षमता को प्रभावित नहीं कर सके।

जनरल जाफ़री का कहना था कि मिज़ाइल अभ्यास के माध्यम से ईरानी राष्ट्र तथा पड़ोसी देशों को सुरक्षा का संदेश भेजा गया है। उन्होंने कहा कि ईरान की सुरक्षा क्षेत्रीय देशों की सुरक्षा है और हमारा प्रयास पूरे क्षेत्र में सुरक्षा को म़जबूत बनाने पर केन्द्रित है। (irib)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें