बांग्लादेश के धार्मिक नेताओं ने देश में जारी अल्पसंख्यकों की हत्याओं की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए इन हत्याओं को इस्लाम धर्म के विरुद्ध बताया है।

फ़्रांस प्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, बांग्लादेश के धर्मगुरूओं की परिषद के नेता फ़रीदुद्दीन मसऊद ने मंगलवार को कहा कि इस फ़त्वे पर अब तक सौ से अधकि धर्मगुरूओं के हस्ताक्षर हो चुके हें और 18 जून को इसे सार्वजनिक रूप से जारी कर दिया जाएगा।

और पढ़े -   रोहिंग्या नरसंहार के चलते ब्रिटेन ने म्यांमार सेना को दी जाने वाली मदद पर लगाई रोक

उनका कहना था कि इस फ़त्वे में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि ग़ैर मुसलमानों अल्पसंख्यकों और सेक्युलरों का जनसंहार, इस्लाम धर्म में वर्जित है और यह जनसंहार ग़ैर क़ानूनी और मानवता के विरुद्ध अपराध है।

बांग्लादेश के धर्म गुरूओं का यह फ़त्वा एेसी स्थिति में है कि सरकार ने पिछले दिनों 11 हज़ार से अधिक वांछित लोगों को हिंओं में लिप्त होने के आरोप में गिरफ़्तार किया है।

और पढ़े -   देखे वीडियो: 500 सालों में पहली बार स्पेन के अलहंब्रा पैलेस में गूंजी अजान की आवाज

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE