sy1

पिछले पांच सालों से लगातार जंग झेल रहे सीरिया के हालात बदतर हो चुके है. देश की अंधिकांश जनसँख्या पलायन कर चुकी है. जो रह गए है वह भूखमरी के साथ बड़ा ही दुभर जीवन जीने को मजबूर है.

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायता प्रमुख मार्क लोकोक ने सीरिया में एक करोड़ 30 लाख से ज्यादा लोगों को तत्काल मदद उपलब्ध कराए जाने पर जोर दिया. उन्होंने बताया कि इन लोगों को तत्काल भोजन, स्वास्थ्य सेवाओं और अन्य मूलभूत आवश्यकताओं की मदद की जरूरत है.

लोकोक ने कहा कि इनमें से लगभग आधे लोग, जो घर बार छोड़ कर भाग चुके हैं. उन्होने बताया, देश के भीतर विस्थापित चल रहे सीरियाई लोग की संख्या 63 लाख से घटकर 61 लााख रह गई. हालांकि अब भी  नए विस्थापितों का स्तर अब भी अधिक बना हुआ है.

उन्होंने बताया, जनवरी से सितंबर के बीच 18 लाख लोगों को कथित रूप से अपने स्थानों को छोड़ने के लिए मजबूर किया गया. 2016 में रक्का शहर से इस्लामिक स्टेट के खिलाफ अभियान के चलते 4,36,000 लोग अन्य स्थानों पर चले गए.

इसके अलावा कम से कम 30 लाख लोग ऐसे दुरूह स्थानों पर हैं, जहां मानवीय जरूरतों को पहुंचने में संरा को कठिन चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE