सऊदी सहित विभिन्न अरब देशों और क़तर के बीच बिगड़े रिश्तों को सुधारने के लिए मध्यस्थ के रूप में आगे आये कुवेत ने दावा किया कि कतर ने अन्य खाड़ी देशों से चिंताओं को समझ उनका हल निकाले जाने की इच्छा जाहिर की है.

कुवैत अब तक के  सबसे बड़े कूटनीतिक संकट में एक मध्यस्थ के रूप में काम कर रहा है, जिसमें सऊदी अरब, बहरीन संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र और यमन ने कतर के साथ सभी संबंधों को ये कहकर समाप्त कर लिया है कि क़तर आतंकियों का मददगार है.

और पढ़े -   रोहिंग्या संकट को लेकर म्यांमार में भेजी जा सकती है सेना, ईरान और पाक सैन्य प्रमुख में हुई बातचीत

कुवैती के विदेश मंत्री ने कहा कि गल्फ कोऑपरेशन काउंसिल के ढांचे के भीतर सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन और कतर के बीच तनाव को दूर करने के लिए उनका देश उत्सुक है.

विदेश मंत्री सबा अल खालिद अल सबा ने कहा, “कतरी वर्तमान समस्याओं का हल ढूंढने को तैयार हैं. उन्होंने कहा, “कुवैत राज्य अपने प्रयासों को अधुरा नहीं छोड़ेगा और अपनी अच्छी कोशिशों को जारी रखेगी और इस तरह के समाधान का पता लगाएगा जो विवाद के कारणों के मूल कारणों से निपटा जा सके.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुसलमानों की सहायता के लिए ईरान ने तेज़ की कोशिश।

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE