mosque

लंदन – साउथ लंदन की एक मस्जिद में बड़ी संख्या में छोटी पुस्तिकाएं बरामद की गई हैं जिनमें अहमदिया मुसलमानों की हत्या का फरमान जारी किया गया है। इन पुस्तिकाओं में अहमदियों को विधर्मी करार दिया गया है। ये पुस्तिकाएं स्टॉकवेल ग्रीन मस्जिद में भारी संख्या में मिली हैं। इनमें साफ कहा गया है कि यदि ये मुख्यधारा के इस्लाम में लौटने से इनकार करते हैं तो इनकी हत्या कर देनी चाहिए। इन पुस्तिकाओं को खत्मे नबूवत के एक के पूर्व चीफ ने लिखा है। यह ग्रुप विदेशी कार्यालयों में मस्जिदों को सूचीबद्ध करता है।

मस्जिद के एक ट्रस्टी ने बीबीसी से कहा कि उसने इस तरह की पुस्तिकाएं इससे पहले कभी नहीं देखीं। ट्रस्टी ने कहा कि ये सारे फर्जी हैं और दुर्भावनापूर्वक की गई हरकत है। इससे पहले एक अहमदी दुकानदार की चाकू घोंपकर हत्या कर दी गई थी। इसे एक मुसलमान ने मारा था जिसने इस्लाम के आनादर करने का आरोप लगाया था। पिछले महीने 40 साल के असद शाह ग्लास्गो में अपने स्टोर के बाहर जख्मी अवस्था में मिले थे।

ब्राडफोर्ड के 32 साल के तनवीर अहमद ने शाह की हत्या की बात कबूली थी। तनवीर के ऊपर हत्या का मामला दर्ज किया गया है। अहमदी अहिसंक और दूसरी आस्थाओं का सम्मान करने वाले माने जाते हैं लेकिन इस समुदाय को पाकिस्तान के संविधान में बैन कर दिया गया है कि वह खुद को मुसलमान नहीं कह सकते। अहमदी समुदाय के लोगों पर अक्सर सांप्रदायिक हमले होते हैं। इसका असर अब ब्रिटेन में भी देखा जा रहा है। खत्मे नबूवत अहमदियों के खिलाफ हिंसा को बढ़ावा देता है।

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक ये पुस्तिकाएं इंग्लिश में लिखी गई हैं। लिखने वाला का नाम यूसुफ लुधियानवी है। खत्मे नबूवत के मस्जिद से संबंधों के बारे में पूछे जाने पर मस्जिद ट्रस्टी तोआह कुरैशी ने कहा, ‘कुछ खास लिटरेचर और मार्गदर्शन के मामले में इस संगठन का मस्जिद से संबंध है। हमने कोई भी पैंफलेट पब्लिश नहीं किया है। यह हमारी मस्जिद से नहीं किया गया है। किसी ने दुर्भावनापूर्वक ऐसा किया है।’


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

Related Posts