अल-अक्सा मस्जिद के आँगन में तीन फिकिस्तिनियो की हत्या के बाद इजरायल ने ऐतिहासिक अल-अक्सा मस्जिद को शुक्रवार को बंद कर दिया था. जिसे रविवार को फिर से खोल दिया गया है. हालांकि सीमित प्रवेश और कड़ी शर्तों को लेकर फिलिस्तीनियों ने जाने से इनकार कर दिया है.

इजराइल का कहना है कि मस्जिद के प्रवेश द्वार पर मेटल डिटेक्टर और सीसीटीवी कैमरे लगाने का काम चल रहा है. शुक्रवार को जुमे की नमाज पढ़ने की भी इजाजत नहीं देंने के कारण इजराइल का जमकर विरोध हुआ था. इजराइल के कदम पर मुस्लिम देशों ने कड़ी आलोचना की थी.

अल अक्सा मस्जिद के निदेशक उमर किस्वानी ने कहा कि अल अक्सा मस्जिद के परिसर को बंद करना, इबादत पर रोक लगाना अपने आप में अनुचित और अन्यायपूर्ण हैं और संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों और अंतर्राष्ट्रीय समझौतों के उल्लंघन हैं.

उन्होंने कहा, हम इजरायल की सरकार को अल-अकसा मस्जिद में किए गए परिवर्तनों के लिए ज़िम्मेदार मानते है. जो हममें से इसका नियंत्रण छिन रहे है. मस्जिदुल अक़सा मक्का और मदीना के बाद, मुसलमानों का तीसरा सबसे पवित्र स्थल है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE