म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिमों पर हो रही हिंसा के खिलाफ इस्लामिक देशों ने अपने मतभेद अलग रख एकजुटता का पहले ही ऐलान कर दिया है. तुर्की और ईरान के नेतृत्व में पूरी इस्लामिक दुनिया रोहिंग्या मुस्लिमों की हर संभव मदद के लिए जुटी हुई है.

ऐसे में ईरान ने कहा कि म्यांमार के रोहिंग्या मुसलमानों को अकेला नहीं छोड़ा जाएगा.  ईरान की इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता के सलाहकार ने कहा कि कि भी स्थिति में म्यंमार के अत्याचारग्रस्त रोहिंग्या मुसलमानों को अकेला नहीं छोड़ा जाएगा.

अली अकबर वेलायती ने कहा है कि म्यांमार की सेना और बौद्ध चरमपंथियों की ओर से रोहिंग्या मुसलमानों पर किये जाने वाले अत्याचारों के मुक़ाबले में इस्लामी देश एकजुट हैं और रोहिंग्या मुसलमानों को अकेले नहीं छोड़ा जाएगा.

इसी बीच ईरान ने रोहिंग्या मुस्लिमो के इलाज के लिए डॉक्टर्स का एक दल बांग्लादेश रवाना कर दिया है. जिसकी बांग्लादेश ने भी इजाजत दे दी है. साथ ही ईरान के स्वास्थ्यमंत्री ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन से इस बारे में बात हुई है कि उनके लिए चिकित्सा उपकरण और डाक्टर भेजे जाएं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE