इस्लामाबाद | पाकिस्तान में गन पॉइंट पर शादी करने को मजबूर हुई भारतीय महिला को इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने अपने वतन लौटने की इजाजत दे दी है. इसके अलावा कोर्ट ने पुलिस को महिला की सुरक्षा करने के भी आदेश दिए है. इससे पहले महिला ने कोर्ट में गुहार लगाई थी की उसको उसके वतन भारत वापिस भेज दिया जाए. जिसको कोर्ट ने स्वीकार कर लिया.

बताते चले की 5 मई को भारतीय मूल की एक महिला उज्मा ने पाकिस्तान स्थित भारतीय दूतावास से मदद की गुहार लगाई थी. उज्मा ने आरोप लगाया था की एक पाकिस्तानी युवक ने बन्दुक की नोक पर उसके साथ शादी की है. लेकिन मैं यहाँ रहना नही चाहती इसलिए मुझे भारत वापिस भेज दिया जाये. हालाँकि कहानी में ट्विस्ट तब आया जब उज्मा से शादी करने वाला शख्स सामने आया.

इस शख्स का नाम ताहिर है. इसने भारतीय दूतावास पर ही उसकी पत्नी को किडनैप करने का आरोप लगा दिया. अपने आरोप में उसने बताया की मैं अपनी पत्नी उज्मा के साथ वीजा के सिलसिले में भारतीय दूतावास गया था जहाँ उसका अपहरण कर लिया गया. ताहिर के आरोपों को ख़ारिज करते हुए भारत ने कहा था की ताहिर की पत्नी स्वंय उनसे मदद मांगने आई थी.

भारतीय उच्चायोग ने उज्मा को दूतावास सम्बन्धी सभी मदद मुहैया करायी. यही नही उच्चायोग ने इस मामले में तत्परता दिखाते हुए भारत में लड़की के परिजन और पाक विदेश मंत्रालय से भी बातचीत की. इसके बाद महिला ने इस्लामबाद हाई कोर्ट में अपील की. अदालत ने उज्मा को राहत देते हुए उसे भारत भेजने का आदेश दिया. उज्मा और ताहिर की मुलाकात मलेशिया में हुई थी जहाँ उनको प्यार हुआ और वो 1 मई को वाघा बॉर्डर से पाकिस्तान चले गए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE