1471785624

2014 में 1700 अमेरिकी सैनिकों के क़त्ल के आरोप में 36 इस्लामिक स्टेट (आईएस) के आतंकियों को रविवार को फांसी की सजा दी गई. इतनी बड़ी संख्या में लोगों की हत्या तिकरित के निकट स्पाइकर कैंप में हुई थी.

अधिकारियों ने बताया कि नरसंहार के दोषियों को दक्षिण इराक के नसीरिया जेल में फांसी की सजा दी गई. गवर्नर कार्यालय के प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया, “स्पाइकर मामले में दोषी करार दिए गए 36 लोगों को नासीरियाह जेल में सुबह फांसी दी गई.”

उल्लेखनीय है कि आईएस के आतंकवादियों ने 12 जून, 2014 को सुरक्षा बलों पर अचानक हमला बोल दिया और देश के उत्तरी और पश्चिमी क्षेत्र के एक बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया था. आतंकवादियों ने कथित तौर पर शिया और गैरमुस्लिम कैडेटों को सुन्नियों से अलग कर लिया और कैंप स्पीचर में उन सभी को गोलियों से भून डाला.

इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों ने इस हादसे के फोटो और वीडियो 2014 में जारी किए थे. और एक साल बाद मारे गए लोगों की सामूहिक कब्रें बरामद हुई थीं. जब इराकी सेना ने इस इलाके पर फिर से कब्ज़ा किया था तब जाकर इन कब्रों का पता चला था.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें