ईरान में भ्रष्टाचार के आरोप में एक अरबपति व्यापारी को मौत की सज़ा सुनाई गई है. अरबपति कारोबारी बाबक ज़नजानी पर तक़रीबन तीन अरब डॉलर के घपले का आरोप है. वे ईरान के सबसे धनी आदमी हैं.

42 वर्षीय ज़नजानी को दिसंबर 2013 में गिरफ़्तार किया गया था. उन पर अपनी कंपनियों के माध्यम से तेल बेचकर पैसा बनाने के आरोप हैं. हालाँकि ज़नजानी ने इन आरोपों से इनकार किया है.

और पढ़े -   सीआईए एजेंट का खुलासा: 9/11 आतंकी हमले को सीआईए की देखरेख में दिया गया था अंजाम

ईरान के न्याय विभाग के एक प्रवक्ता ने संवाददाताओं को बताया कि ज़नजानी पर धोखाधड़ी और आर्थिक अपराधों का दोषी पाया गया है.

अमरीका और यूरोपीय यूनियन ने ज़नजानी को प्रतिबंध के दौर में तेल बेचने में ईरान की सहायता करने के लिए ब्लैकलिस्ट किया था.

उनके अलावा दो अन्य व्यक्तियों को भी मौत की सज़ा सुनाई गई है और उन्हें घोटाले की रकम लौटाने के आदेश दिए गए हैं. इस आदेश के ख़िलाफ़ अपील की जा सकती है. ज़नजानी पर आरोप है कि उन्होंने देश की क़ीमत पर ख़ुद के लिए पैसे बनाए.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों पर नहीं रुक रही म्यांमार सेना की हैवानियत

राष्ट्रपति हसन रूहानी ने भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ ज़ोरदार कार्रवाई करने को कहा था. उन्होंने कहा था कि जिन लोगों ने आर्थिक प्रतिबंधों के दौरान मौक़े का फ़ायदा उठाया, उन पर सख़्त कार्रवाई की जानी चाहिए.

इसके बाद साल 2013 में ज़नजानी को गिरफ़्तार कर लिया गया और उन पर मुक़दमा चलाया गया. ज़नजानी दुबई में रहते हुए 60 कंपनियों का एक नेटवर्क चलाते थे, जो कॉस्मेटिक्स से लेकर बैंकिंग और एयरलाइन्स तक के धंधे में थे.

और पढ़े -   म्यांमार में हज़ारों रोहिंग्या मुस्लिम बच्चे भुखमरी के शिकार: सयुंक्त राष्ट्रसंघ

उनका जन्म तेहरान में हुआ था और उन्होंने तुर्की में विश्वविद्यालय स्तर की पढ़ाई की थी. वे साल 1999 में ईरान के केंद्रीय बैंक के प्रमुख के ड्राइवर बन गए. (BBC)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE