सऊदी अरब सहित संयुक्त अरब इमारात, बहरैन, लीबिया, यमन और मिस्र द्वारा क़तर से अपने कूटनैतिक संबंध तोड़े जाने के बाद इन सभी देशों ने क़तर से वायु, ज़मीन और समुद्री संपर्क भी समाप्त कर दिया. जिसकी वजह से क़तर एयरवेज़ के लिए मुसीबत पैदा हो गई है. ऐसे में अब ईरान ने आगे आकर क़तर एयरवेज़ के विमानों के लिए अपनी वायु सीमा खोल दी है.

मेहर न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार ईरान के अधिकारी ने कहा कि क़तर एयरवेज़ के लिए कुछ अरब देशों ने अपनी वायु सीमाएं बंद कर ली हैं, अब क़तर एयरवेज़ के लिए ईरान की वायु सीमा का ही एक रास्ता बचता है. अधिकारी ने बताया कि ईरान की वायु सीमा से प्रतिदिन 955 उड़ानें गुज़रती हैं और क़तर का संकट उत्पन्न हो जाने  के बा अब इन उड़ानों की संख्या में 200 की वृद्धि हो जाएगी।

अधिकारी ने बताया कि इससे पहले क़तर से उत्तरी अफ़्रीक़ा और दक्षिणी यूरोप जाने वाले क़तर एयरवेज़ के विमान सऊदी अरब और मिस्र की वायु सीमा से गुज़रते थे लेकिन इन देशों की ओर से क़तर के लिए अपनी वायु सीमा बंद कर लिए जाने के बाद अब क़तर के विमान ईरान, इराक़ और जार्डन की वायु सीमा से गुज़रकर उत्तरी अफ़्रीक़ा जा रहे हैं।

अधिकारी के अनुसार क़तर एयरवेज़ की मध्य यूरोप, उत्तरी यूरोप और उत्तरी एटलांटिक की ओर जाने वाली उड़ानें बहरैन, कुवैत, इराक़ और तुर्की से गुज़रती थीं लेकिन बहरैन ने चूंकि अपनी वायु सीमा क़तर के लिए बंद कर ली है अतः अब यह विमान ईरान से गुज़रकर तुर्की और फिर आगे की ओर जा रहे हैं।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE