नई दिल्‍ली : पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भी माना है कि पंजाब के पठानकोट में हुए हमले से दोनों देशों के बीच होने वाली बातचीत प्रभावित हुई है। पहले दोनों देशा के बीच अच्‍छी तरह से बात हो रही थी।

आपको बता दें कि भारत ने पठानकोट हमले में जैश-ए-मोहम्मद के चीफ मौलाना मसूद अजहर की भूमिका को लेकर पाक को कई सबूत दिए हैं, लेकिन हमले के 3 हफ्ते बीत जाने के बाद भी मसूद पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। भारत ने इस हमले के साजिशकर्ताओं के खिलाफ सख्त और जल्द कार्रवाई की मांग की है और ऐसा होने तक किसी भी तरह की बातचीत पर आगे नहीं बढ़ने का फैसला किया है।

और पढ़े -   इंडोनेशियाई पुलिस ने रमजान से पहले लाखों शराब की बोतलों को स्टीमरोलर से किया नष्ट

भारत सरकार के सूत्रों ने बताया कि भारत-पाक बातचीत की प्रक्रिया उसी सूरत में आगे बढ़ सकती है जब पठानकोट हमले की जांच में पड़ोसी देश की तरफ से किसी तरह की प्रगति सामने आए। सूत्रों के मुताबिक, भारत की तरफ से पाक को पर्याप्त सबूत दिए जा चुके हैं और अब यह पाक पर है कि वह आतंक के खिलाफ भारत का सहयोगी बने रहने के लिए क्या कार्रवाई करता है।

और पढ़े -   मानवाधिकारों के उल्लंघन को लेकर CRPF के पूर्व आईजी को कनाडा ने वापस लौटाया

इससे पहले, पाकिस्तान उच्चायुक्त ने आश्वासन दिया था और यह कहा था कि भारत की तरफ से दिए गए सबूत पर्याप्त हैं, पाकिस्तान जल्द ही जैश के खिलाफ कार्रवाई करेगा। उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तानी जांच दल को पर्याप्त सबूत मिलते हैं तो मैं विश्वास दिलाता हूं कि मसूद अजहर का भविष्य लखवी की तरह नहीं हो सकेगा। जकी उर रहमान लखवी 26/11 हमले का आरोपी है। भारत की तरफ से कई बार सबूत दिए जाने के बावजूद वह खुला घूम रहा है। (NEWS24)

और पढ़े -   UAE: शेख खलीफा ने रमजान में 977 कैदियों को रिहा करने का दिया आदेश

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE