पिछले पांच सालों से युद्ध की मार झेल रहे सीरिया के पुननिर्माण के लिए भारत आगे आया है. सीरियाई राष्ट्रपति बसर अल-असद ने भारत के इस कदम का स्वागत किया है.

वियॉन टीवी से बातचीत में उन्होंने कहा, सीरिया के पुनर्निर्माण में आर्थिक भूमिका निभाने के लिए भारत का स्वागत है. इसे (पुनर्निर्माण) हमने पहले ही शुरू कर दिया है. उन्होंने यह भी कहा कि भारत और सीरिया आतंक के पीडि़त हैं और उन्हें इस समस्या के खिलाफ लड़ाई में एक-दूसरे का समर्थन करना चाहिए.

उन्होंने कहा, हमने दमिश्क में यह परियोजना शुरू की और अब हम सीरिया के ज्यादातर शहरों में इस परियोजना का विस्तार कर रहे हैं. बेशक, इन शहरों को आईएसआईएस और अल नुसरा और उन आतंकवादी समूहों से मुक्ति दिलाने के बाद परियोजना का विस्तार कर रहे हैं. हम किसी भी भारतीय कंपनी का स्वागत करेंगे.

आतंक के खिलाफ लड़ाई के मुद्दे पर असद ने कहा कि भारत और सीरिया एक-दूसरे से सीख सकते हैं और आतंकवाद के खिलाफ सही गठबंधन बनाने की दिशा में काम करेंगे. असद ने सीरिया के युद्ध पर भारत के रख को अंतरराष्ट्रीय कानून और संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अनुसार और उन देशों से स्वतंत्र बताया जिन्होंने भारत पर सीरिया के साथ सभी संबंध तोड़ लेने का दबाव बनाया था.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE