wor

दुनिया में  गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों की संख्या सबसे अधिक भारत में हैं इस बात का खुलासा श्वबैंक की एक ताजा रिपोर्ट में हुआ हैं.

पॉवर्टी एंड शेयर प्रॉसपेरिटी (गरीबी और साझा समृद्धि) शीर्षक से जारी की गई इस रिपोर्ट में कहा गया कि ’भारत सबके बीच ऐसा देश है जहां प्रति दिन 1.90 डॉलर की आय वाली गरीबी की रेखा के अंतरराष्ट्रीय मानक से नीचे जीवन यापन करने वाले लोगों की संख्या सबसे अधिक है.

विश्वबैंक की रिपोर्ट के अनुसार 2013 में भारत में 30 प्रतिशत लोग गरीबी की रेखा के नीचे रह रहे थे जिनकी संख्या करीब 22.4 करोड़ थी. इस साल के दौरान पूरी दुनिया में गरीबों की संख्या करीब 80 करोड़ थी, जो साल 2012 की संख्या से 10 करोड़ कम थी.

रिपोर्ट के अनुसार गरीबी में आई यह कमी मुख्य रूप से एशिया प्रशांत क्षेत्र में हुई प्रगति का परिणाम है. इसमें मुख्यरूप से चीन, इंडोनेशिया और भारत का योगदान है. रिपोर्ट के अनुसार विश्व में प्रतिव्यक्ति आय के हिसाब से सबसे नीचे के 40 देशों में 2011 में औसत प्रति व्यक्ति वार्षिक आय 8,861 डॉलर थी.

रिपोर्ट के अनुसार भारत में शीर्ष 10 प्रतिशत आबादी की औसत आय ही अमेरिका के चीन के 40 प्रतिशत की औसत आय के बराबर थी


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें