तीन दशकों तक इराक पर शासन करने वाले सद्दाम हुसैन के आखिरी दिनों में सुरक्षा में तैनात अमेरिकी सैनिकों ने अपने अनुभवों को ‘दी प्रिजनर इन हिज पैलेस: सद्दाम हुसैन, हिज अमेरिकन गार्ड्स, ऐंड व्हॉट हिस्ट्री लीव्ज अनसेड’ नामक किताब का रूप दिया है.

इस किताब में उन्होंने बताया कि सद्दाम हुसैन अपनी छोटी छोटी कहानियां सुनाया करता था. वह अपने अंतिम दिनों में अमेरिकी गायिका मेरी जे ब्लिज के गानों को सुना करता था. सद्दाम की सुरक्षा में तैनात इन अमेरिकी सिपाहियों को उससे एक रिश्ता कायम हो गया था.

और पढ़े -   रोहिंग्या संकट को लेकर म्यांमार में भेजी जा सकती है सेना, ईरान और पाक सैन्य प्रमुख में हुई बातचीत

किताब के लेखक बार्डेनवेरपेर लिखते है कि सद्दाम एक कोने में धूल के छोटे से ढेर पर उग आई घास को पानी देना पसंद करते थे. वे उसकी देखभाल ऐसे करते थे जैसे कि वे ‘खूबसूरत फूल हों. अपने भोजन को लेकर वे काफी संवेदनशील थे. नाश्ता कई हिस्सों में लेते थे. पहले आमलेट खाते थे, फिर मफिन और उसके बाद ताजे फल. आमलेट कटाफटा हो तो वे खाने से मना कर देते थे. उन्हें मिठाईयां बहुत पसंद थीं.

और पढ़े -   रोहिंग्याओं के नरसंहार को रोकना है तो म्यांमार पर लगे कड़े प्रतिबंध: ह्यूमन राइट्स वॉच

सद्दाम अनुशासन के पक्के थे. सद्दाम ने बताया था कि उनके बेटे उदय ने एक बड़ी गंभीर गलती कर दी थी. जिससे सद्दाम को बेहद गुस्सा आया था. उदय ने एक दल पर गोलीबारी कर दी थी. जिसमें कई लोग मारे गए थे. कई घायल हो गए थे. सद्दाम ने बताया है कि मुझे बहुत गुस्सा आया और मैंने उसकी सभी कारें जला दी. उन कारों में रॉल्स रॉयस, फरारी और पॉर्श जैसी महंगी कारें भी थी.

और पढ़े -   व्हाट्सअप पर इस्लाम के लिए अपमानजनक सन्देश भेजने वाले को मिला मृत्युदंड

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE