सीरिया में अमेरिका ने न केवल बेगुनाहों की जान ली हैं बल्कि अपनी आतंकी गतिविधियों के चलते मस्जिदों पर भी बम गिराकर उन्हें भी शहीद किया हैं. ये बात खुद अमेरिका ने स्वीकारी हैं.

प्रेस टीवी की रिपोर्ट के अनुसार, पेन्टागन के अधिकारियों ने गुरुवार को सीएनएन से बात करते हुए स्वीकार किया कि अमरीकी सेन्ट्रल कमान्ड की समीक्षा से पता चलता है कि पश्चिमी हलब के एक गांव पर 16 मार्च को होने वाले हमले में मस्जिद के एक भाग की इमारत को निशाना बनाया गया.

और पढ़े -   चीन-भारत तनाव ईरान पहुंचा, चीनी कंपनी ने सभी भारतीय कर्मचारी को नौकरी से निकाला

पेन्टागन के अधिकारियों ने इससे पहले तक इस मस्जिद पर हमले का खंडन किया था. 16 मार्च 2017 को होने वाले अमरीका के हवाई हमले में कम से कम 49 आम नागरिक हताहत हो गये थे.

ज्ञात रहे कि अमरीका और उसके घटक देश, सीरिया में आतंकवादी गुट से संघर्ष के बहाने इस देश पर आए दिन हमले करते रहते हैं.

और पढ़े -   आईएसआईएस के मुक़ाबले हिज़बुल्लाह की निरंतर सफलताओं से इस्राईल में मचा हड़कंप

सीरिया के अधिकारी अमरीकी हमलों को देश की अखंडता और संप्रभुता का उल्लंघन बताते हैं और कहते हैं कि देश में होने वाली हर कार्यवाही की दमिश्क़ सरकार से अनुमति ली जानी चाहिए.

सीरिया संकट के आरंभ से ही अमरीका, पश्चिमी देशों और उसके क्षेत्रीय घटक देशों ने सीरिया में सक्रिय आतंकवादियों की वित्तीय व सामरिक सहायता करते रहे हैं.

और पढ़े -   लंदन: मस्जिद में बना विश्व का सबसे बड़ा समोसा, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में हुआ दर्ज

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE