आठ साल तक अमेरिका के राष्ट्रपति रहे बराक ओबामा ने अपनी फेयरवेल स्पीच में कहा कि ‘मैंने मुस्लिम अमरीकियों के खिलाफ़ भेदभाव को समाप्त किया.’

ओबामा ने कहा कि अमेरिका के एक बेहतर और मजबूत बना है जबसे हमने शुरू किया है. पिछले आठ साल में एक भी आतंकी हमला नहीं हुआ. हमारी एजेंसियों पहले से कहीं अधिक प्रभावी हैं. आईएसआईएस खत्म होगा. अमेरिका के लिए जो भी खतरा पैदा करेगा, वो सुरक्षित नहीं रहेगा. ओसामा बिन लादेन समेत हजारों आतंकियों को हमने मार गिराया है. अपनी स्पीच में ओबामा ने कहा कि मैं मुस्लिम अमेरिकियों के खिलाफ भेदभाव को अस्वीकार करता हूं. मुसलमान भी उतने देशभक्त हैं, जितने हम.

ओबामा ने आगे कहा ‘ हमें नस्ली भेदभाव को खत्म करने के लिए बहुत कुछ और करना होगा ताकि वो सभी जो यहां रहते हैं उन्हें ये देश अपना लगे और उन्हें इससे प्यार हो.’  उन्होंने कहा कि ग्वांतानामो को बंद करने की कोशिश की गई, इराक़ से अमरीका ने सेना वापस बुलाई, जिस शख़्स ने 9/11 को अंजाम दिया था उसका ख़ात्मा किया गया और आर्थिक स्थिति बेहतर हुई.

ओबामा ने लोकतंत्र को ही अमेरिका की ताकत बताया. उन्होंने कहा कि, ‘आज चीन और रूस जैसे देश क्यों दुनिया में अमेरिका की जगह नहीं ले पाते? क्योंकि हमारा लोकतंत्र ही हमारी ताकत है. ओबामा ने कहा, ‘लोकतंत्र की बुनियादी जरूरत एकजुटता है, ताकि हम सभी एक साथ ऊपर उठें या नीचे जाएं. दुनिया भर के लोग द दिनों में अमेरिकी लोकतंत्र का नमूना देखेंगे जब एक राष्ट्रपति दूसरे को शांतिपूर्वक तरीके से सत्ता सौंपेगा. मैंने ट्रंप से वादा किया था कि मेरा प्रशासन बेहद सुचारु तौर पर आपको सत्ता सौंपेगा.’

ओबामा ने कहा ‘अमेरिका में नस्लवाद व्यवहारिक नहीं है. हमने बीते आठ सालों में कभी भी मुस्लिमों के साथ भेदभाव नहीं किया. असल में हमें जागरूक होने की जरूरत है न कि किसी समुदाय से डरने की.’


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

Related Posts