विभिन्न बैंकों से 9 हजार करोड़ रुपए का कर्ज लेकर फरार हुआ शराब कारोबारी विजय माल्या ने भारत द्वारा उसे भगोड़ा घोषित करने पर ही सवाल खड़े कर दिए.

उसने ब्रिटेन की नागरिकता का हवाला देते हुए कहा कि मैं 1992 से लंदन का निवासी हूं. मैं समझ नहीं रहा हूं कि भारत की ओर से भगोड़ा क्यों घोषित किया गया. उसका ये बयान प्रत्यर्पण के लिए  सीबीआई की और से की जा रही कारवाई के खिलाफ आया है.

और पढ़े -   ईरान और तुर्की के बीच बढ़ा सैन्य सहयोग, सऊदी अरब हुआ परेशान

हालांकि लंदन की वेस्टमिंटर कोर्ट ने सुनवाई को दो महीने के लिए टाल दी है. अब इस मामले में अगली सुनवाई 14 सितंबर को होगी. सीबीआई का दावा है  कि विजय माल्या के खिलाफ काफी सबूत हैं. इसी सिलसिले में कोर्ट में दो हजार पन्नों के सबूत पेश किए गए हैं.

गौरतलब रहें कि बुधवार को माल्या के खिलाफ पीएमएलए कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी किया है. कोर्ट ने यह वारंट आईडीबीआई बैंक के 900 करोड़ रुपए के कर्ज के मामले में जारी किया है. इससे पहले भी माल्या के खिलाफ कई गैर जमानती वारंट जारी हो चुके हैं.

और पढ़े -   स्पेन की अदालत ने इजरायल प्रधानमंत्री के खिलाफ जारी किया गिरफ्तारी का आदेश

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE