French-Prime-Minister-Manuel-Valls

फ्रांस की सुप्रीम कोर्ट द्वारा बुर्कीनी पर लगाये गए प्रतिबन्ध को अवैध ठहराने से तिलमिलाए हुए फ्रांस के प्रधानमन्त्री ने महिलाओं पर एक बयान देकर विवाद पैदा कर दिया हैं. जिसके बाद उन्हें भारी आलोचना का सामना करना पड़ रहा हैं.

फ्रांस में महिलाओं के फुल स्विमसूट (बुर्कीनी) को बैन करने वाले मेयर्स को समर्थन करने के मुद्दे पर फ्रांसीसी पीएम मैनुअल वॉल्स ने सोमवार को अपने भाषण में मैरीऐन के खुले ब्रेस्ट को फ्रांस गणराज्य का प्रतीक बताते हुए बुर्कीनी बैन को सही बताते हुए कहा कि कहा, ‘फ्रांस की क्रांति का प्रतीक मैरीऐन के खुले हुए ब्रेस्ट हैं क्योंकि वह बच्चों को फीडिंग कराती हैं. वह परदे के भीतर नहीं हैं क्योंकि वह आजाद हैं और यही एक गणतंत्र की पहचान है.’

फ्रांसीसी पीएम के इतिहास ज्ञान पर सवाल उठाते हुए फ्रांसीसी क्रांति के एक प्रख्यात इतिहासकार ने ट्वीट किया, मैरीऐन के खुले ब्रेस्ट इसलिए हैं क्योंकि वह एक रूपक है. उन्होंने इसके बाद बताया कि मैरीऐन केवल क्लासिकल ऐल्यूजन्स है और कुछ नहीं.  एक अन्य इतिहासकार निकोलस लेबॉर्ग ने कहा कि वॉल्स मैरीऐन और 1830 की डेलाक्राइक्स की पेटिंग ऑफ लिबर्टी में कंफ्यूज हो रहे हैं. पेटिंग ऑफ लिबर्टी में ब्रेस्ट ढके हुए नहीं बल्कि खुले हुए हैं.

ग्रीन पार्टी के एक पूर्व मंत्री सेसिल डफलॉट ने कहा, वॉल्स की मैरीऐन के खुले ब्रेस्ट की तारीफ करना कुछ फ्रांसीसी पुरुष नेताओं की महिलाविरोधी सोच को ही प्रदर्शित करता है जोकि बहुत ही अफसोसजनक है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें