बुर्ज खलीफा सहित ऊंची-ऊंची इमारतें बनाकर इतिहास रचने वाले संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने अब मंगल पर अपना पहला शहर बनाने की घोषणा की हैं.

शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मखतूम ने दुबई में इस सप्ताह मार्स 2117 प्रॉजेक्ट की घोषणा करते हुए कहा कि ‘मंगल पर उतरना मानवों के लिए दीर्घकालीन सपना रहा है. हमारा लक्ष्य है कि यूएई अंतरराष्ट्रीय प्रयासों का नेतृत्व करते हुए इस सपने को सच कर दिखाए. नई परियोजना एक बीज है जिसे हमने आज रोपा है और हमें उम्मीद है कि आने वाली पीढ़ियों को इसका लाभ मिलेगा.’

और पढ़े -   कठिन परिस्थितियों में भी नहीं छोड़ा फिलिस्तीन का साथ, मुसलमानों में फैलाए जा रहे मतभेद: सीरिया

दुबई के 5वें वर्ल्ड गवर्मेंट समिट में की गई इस घोषणा में शेख ने कहा, ‘2117 मार्स एक दीर्घकालिक परियोजना है, जो पहले हमारी शिक्षा, विश्वविद्यालयों और शोध संस्थान के विकास में मदद करेगा, जिससे युवा पीढ़ी वैज्ञानिक शोध के हर क्षेत्र में सशक्त बनेंगे. 100 साल के लिए निर्धारित इस योजना के तहत वैज्ञानिक शोध किए जाएंगे. इसके अंतर्गत देश में विश्वविद्यालय स्तर पर अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में नैशनल कैडर तैयार किया जाएगा. इस कार्यक्रम के तहत युवा पीढ़ी का अंतरिक्ष विज्ञान की तरफ रुझान भी बढ़ाया जाएगा.

और पढ़े -   सऊदी घटक देशों के प्रतिबंध के बावजूद क़तर और तुर्की ने शुरू किया संयुक्त सैन्य अभ्यास

अंतरिक्ष में दुबई का पहला अभियान 2021 में लॉन्च होना है. अगर इसमें सफलता मिलती है तो यह अंतरिक्ष में अरब का पहला अनुसंधान होगा. मार्स 2117 प्रॉजेक्ट में अंतरराष्ट्रीय टीम को जोड़ने से पहले यूएई के वैज्ञानिक काम करेंगे. इसके साथ ही मंगल पर पहुंचने और वहां से आने के सबसे तेज माध्यम (परिवहन के साधन) पर भी शोध किया जाएगा.

और पढ़े -   नेपाल सरकार ने पतंजलि के 7 प्रोडक्‍ट पर लगाया बैन, क्वालिटी टेस्ट में हो गए फ़ैल

याद रहें कि 2014 में स्थापित अंतरिक्ष एजेंसी पर यूएई अब तक 5.4 अरब डॉलर खर्च कर चुका है. यूरोप की तर्ज पर इसे पैन-अरब स्पेस एजेंसी बनाए जाने का प्रस्ताव है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE