कुवैत: फ्रांस के विदेश मंत्री जीन-यवेस ले ड्रियन ने रविवार को कुवैत में शीर्ष अधिकारियों के साथ वार्ता आयोजित की. इस दौरान वे कुवैती अमीर शेख सबा अल अहमद अल सबा और कुवैत के विदेश मंत्री से मिले.

शनिवार को उनके दो दिवसीय गल्फ के दौरे की शुरुआत हुई है. इस दौरान ड्रियन ने सऊदी अरब और कतर की भी यात्रा की. फ्रेंच विदेश मंत्री ने एक मध्यस्थ के रूप कुवैत का समर्थन करते हुए कहा कि इस संकट को है, खाड़ी देशों द्वारा स्वयं ही सुलझाया जाना चाहिए.

और पढ़े -   बांग्‍लादेश ने भारत को चेताया - नहीं रुका रोहिंग्याओं का पलायन तो पुरे क्षेत्र में पैदा होगा खतरा

ले ड्रियन ने शनिवार को सऊदी अरब में कहा, फ्रांस मध्यस्थ का विकल्प नहीं चाहता है. ले ड्रियन की यात्रा अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिल्लसन द्वारा की गई चार दिवसीय यात्रा की समाप्ति के बाद शुरू हुई. हालंकि उनकी यात्रा से खाड़ी में बढ़ते तनाव को कम करने की दिशा में कोई प्रगति नहीं हुई.

गौरतलब रहें कि 5 जून को सऊदी और उसके सहयोगी देशों ने क़तर पर प्रतिबंध लगाते हुए अपनी एकमात्र जमीनी सीमा को बंद कर दिया गया था, साथ ही कतर के लिए हवाई क्षेत्र भी सील कर दिया था.

और पढ़े -   ईरान ने रोहिंग्या मुसलमानों के लिये भेजा 40 टन खाद्य सामग्री

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE