फ्रांस में मुसलमानों ने ग़ैर मुसलमानों के साथ संवाद को बढ़ावा देने की पहल की है. इस पहल के तहत मस्जिदों में अन्य मजहब के लोगों को आमंत्रित किया जा रहा है ताकि वे इस्लाम को सही मायने में समझ सकें.

फ्रांस

हफ्ते के आख़िरी दिनों में होने वाले इस आयोजन में मस्जिद आने वाले ग़ैर मुसलमानों का स्वागत गर्म पेय और पेस्ट्री के साथ किया जा रहा है.

और पढ़े -   अल-अक्सा मस्जिद में इजरायली कार्रवाई की दुनिया भर में हो रही निंदा

फ्रांस में अग्रणी मुस्लिम संस्था ‘फ्रेंच काउंसिल ऑफ द मुस्लिम फैथ’ ने हालिया जेहादी हमलों के बाद मुख्यधारा के इस्लाम को जेहादियों से अलग करने की कोशिश की है.

पेरिस में व्यंग्य पत्रिका शार्ली एब्डो के दफ्तर पर चरमपंथी हमले के एक वर्ष बाद यह क़दम उठाया गया है. पिछले साल पेरिस में चरमपंथी हमले की अलग-अलग घटनाओं में 17 लोग मारे गए थे. साभार: बीबीसी हिंदी

और पढ़े -   50 से कम उम्र के लोग मस्जिदुल अक्सा में अदा नहीं कर पाएँगे नमाज-ए-जुमा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE