यूरोप में शरणार्थी संकट से निपटने के लिए ब्रसेल्स में यूरोपीय संघ और तुर्की की इमरजेंसी बैठक सोमवार को हो रही है.

नेटो ने ईजियन सागर में अपने अभियान के विस्तार का फ़ैसला किया है. उसने तय किया है कि वह ग्रीस और तुर्की के इलाक़ों में अपने जहाज़ भेजेगा और यूरोपीय संघ की सीमा एजेंसियों के साथ मिलकर काम करेगा.

और पढ़े -   नेपाल सरकार ने पतंजलि के 7 प्रोडक्‍ट पर लगाया बैन, क्वालिटी टेस्ट में हो गए फ़ैल

ब्रसेल्स में होने वाली बैठक में यूरोपीय संघ के नेता तुर्की पर दबाव डालेंगे कि वह लोगों की आवाजाही पर रोक लगाए और यूरोपीय संघ से निर्वासित किए गए आर्थिक प्रवासियों को फिर से अपने यहां आने की इजाज़त दे.

बदले में यूरोपीय संघ तुर्की में पहले से मौजूद कुछ शरणार्थियों को यूरोप में बसाने की पेशकश करेगा.

ग्रीस और मेसेडोनिया की सीमा के पास 13 हज़ार शरणार्थी हैं और ग्रीस के प्रधानमंत्री एलेक्स सिप्रास ने आरोप लगाया है कि कुछ देश यूरोप को एक किले में तब्दील कर रहे हैं और शरणार्थी संकट से निपटने से इनकार कर रहे हैं.

और पढ़े -   नमाज अदा कर लोट रहे नमाजियों को चलती कार से रोंदा, आरोपी हुआ गिरफ्तार

सिप्रास का कहना है कि शरणार्थियों को यूरोपीय संघ के दूसरे सदस्य देशों में भेजना इस वक़्त की सबसे बड़ी ज़रूरत है. (BBC)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE