हाल ही में मुस्लिम ब्रदरहुड के समर्थन तथा ईरान की प्रशंसा करने को लेकर सऊदी अरब, यूएई, बहरीन, यमन आदि के साथ मिलकर मिस्र ने क़तर से अपने सभी रिश्तें तोड़तें हुए उसके खिलाफ कई कड़े प्रतिबन्ध लगाए है. लेकिन अब मिस्र ने तुर्की पर भी इसी तरह प्रतिबंध की बात कही है.

“मिडिल ईस्ट मानिटर” के अनुसार अब्दुल फ़त्ताह अस्सीसी ने तुर्की के विरुद्ध प्रतिबंध लगाए जाने की मांग करते हुए कहा है कि यदि तुर्की, क़तर और मुस्लिम ब्रदरहुड का समर्थन करना नहीं छोड़ता तो उसके विरुद्ध कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगाए जाएं.

और पढ़े -   यमन युद्ध में मरने वाले 50 प्रतिशत बच्चे सऊदी हमलों में मरे: सयुंक्त राष्ट्र

अब्दुल फ़त्ताह अस्सीसी का ये बयान बहरीन के शासक हम्द बिन ईसा आले ख़लीफ़ा के साथ मुलाक़ात के बाद आया है. इससे पहले ही रूवार को यूनान के विदेशमंत्री “निकोलस काटज़ियास” ने क़ाहिरा में यूनानी दूतावास की ओर से जारी एक बयान में कहा था कि क़तर की ही भांति एक अन्य देश का हाल होने वाला है.

गौरतलब रहें कि तुर्की क़तर के खिलाफ अरब देशों के व्यवहार को गैरइस्लामिक करार देते हुए विरोध में आ चूका है. साथ ही ईद के पहले इस संकट के समाधान की भी बात कही है.

और पढ़े -   2016 में गौरक्षा के नाम पर बढ़ी है मुस्लिमों पर हिंसा: अमेरिकी विदेशमंत्री

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE