अमरीका में राष्ट्रपति पद के चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के सबसे अहम दावेदार डोनल्ड ट्रंप के ख़िलाफ़ न्यूयॉर्क में विरोध प्रदर्शन हुआ.

शहर के मशहूर कोलंबस सर्किल में मौजूद ट्रंप की एक गगनचुंबी इमारत ट्रंप टावर्स के सामने एक हज़ार से ज़्यादा प्रदर्शनकारियों ने डोनल्ड ट्रंप और उनकी नीतियों के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाज़ी की और अपना विरोध जताया.

प्रदर्शन के एक आयोजक स्टीवन हेमलिन का कहना था कि वह और उनके साथी कई महीने से ट्रंप के ख़िलाफ़ प्रदर्शन की योजना बना रहे थे.

स्टीवन हेमलिन कहते हैं, ”हम तो ट्रंप को एक ख़तरा मानते हैं, क्योंकि वह नस्ल और धर्म के आधार पर नफ़रत करते हैं और हिंसा के लिए लोगों को उकसाते हैं. हमने सुपर ट्यूज़डे के बाद तय किया कि बस अब बहुत हो गया. एनफ़ इज़ एनफ़, अब और नहीं.”

प्रदर्शन में शामिल क़रीब 1000 लोग ट्रंप विरोधी नारे लिखे पोस्टर और बैनर थामे थे. इनमें महिलाएं भी काफ़ी संख्या में थीं.

एक महिला प्रदर्शनकारी जीना फ़ॉक्स का कहना है कि ट्रंप को वोट देने वाले ग़लत कर रहे हैं.

फ़ॉक्स के मुताबिक़, “मैं समझती हूँ कि अधिकतर लोग जो ट्रंप को वोट दे रहे हैं, उन्हें अधिक जानकारी नहीं है. उनकी आर्थिक परेशानियां भी हैं इसलिए वो ट्रंप के साथ हो रहे हैं. मगर डर और अनिश्चितता के कारण दूसरे लोगों को निशाना बनाना किसी भी तरह से अमरीकी तरीक़ा नहीं है.”

प्रदर्शनकारियों के बैनरों पर लिखा था- ट्रंप रेसिस्ट हैं, तो किसी पर लिखा था कि ट्रंप नफ़रत मत फैलाओ, किसी पोस्टर पर लिखा था ‘ट्रंप को देश से निकाल दो’.

भारतीय मूल के एक अमरीकी दशमीत सिंह भी ट्रंप विरोधी पोस्टर थामे नारे लगा रहे थे.

वे कहते हैं, “हर इंसान के साथ प्यार से पेश आना चाहिए. ट्रंप हर इंसान के लिए गालियां निकालते हैं. चाहे वह मुस्लिम हों, मेक्सिकन हों, या कोई और, सबके लिए वह बुरी भाषा का प्रयोग करते हैं. और अगर हम उन्हें नहीं रोकेंगे तो कोई नहीं रोकेगा. इसलिए मैं बाहर आकर विरोध कर रहा हूँ.”

प्रदर्शनकारियों का अधिकतर ग़ुस्सा ट्रंप की कुछ विवादित नीतियों की वकालत करने को लेकर था.

मसलन ट्रंप का मानना है कि आतंकवाद के ख़तरे के मद्देनज़र अमरीका में मुसलमानों के प्रवेश पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी जानी चाहिए.

इसके अलावा लातीनी मूल के लोगों के ख़िलाफ़ ट्रंप आरोप लगाते हैं कि वो अमरीका में अवैध रूप से प्रवेश करके अमरीकियों की नौकरियां ले रहे हैं. ट्रंप अमरीका में अवैध अप्रवासियों की घुसपैठ रोकने के लिए मेक्सिको और अमरीका की सीमा पर दीवार बनाने की भी वकालत करते हैं.

प्रदर्शन के साथ कोई 10-12 लोग ट्रंप के समर्थन में भी पोस्टर थामे खड़े थे और रह-रहकर ट्रंप विरोधी उन पर छींटाकशी कर रहे थे कि ट्रंप जैसे रेसिस्ट का समर्थन क्यों करते हो.

एक ट्रंप समर्थक सैरा मैकडोनल्ड कहती हैं, “अगर आप उनके विचारों को ग़ौर से सुनें, तो पाएंगे ट्रंप रेसिस्ट या नस्ल के आधार पर नफ़रत करने वाले नहीं हैं. हम लोग यहां उनके समर्थन में इसीलिए आए हैं कि दिखा सकें कि हम शांति के साथ ट्रंप का समर्थन करते हैं.”

ट्रंप ने अब तक रिपब्लिकन पार्टी के प्राइमरी चुनाव में सबसे अधिक राज्यों में जीत हासिल की है.

लेकिन ख़ुद उनकी रिपब्लिकन पार्टी में भी कई लोग उनका विरोध कर रहे हैं और ट्रंप को रिपब्लिकन पार्टी की उम्मीदवारी देने के ख़िलाफ़ खुलकर मुहिम भी चला रहे हैं. (BBC)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें