पहले विदेश दौरे पर निकले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सोमवार को इजरायल पहुंचे. तेल अवीव के बेन गुरियन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरते ही उन्होंने इजरायल और फलस्तीन के बीच विवाद खत्म करने की प्रतिबद्धता दोहराते हुए कहा कि मध्य-पूर्व में शांति और सुरक्षा स्थापित करने का यह दुर्लभ अवसर है.

ट्रंप के पहुंचने से पहले नेतन्याहू की सरकार ने फलस्तीन के साथ आवाजाही और आर्थिक संबंधों में सुधार के लिए कुछ कदमों को मंजूरी भी दी. तेल अवीव से ट्रंप यरुशलम रवाना हो गए, जहां उन्होंने रिवलिन के साथ द्विपक्षीय बैठक की.फिर उन्होंने मंगलवार को वे वेस्ट बैंक के बेथलेहम का दौरा किया. जहाँ उन्होंने फलस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास से मुलाकात की.

फ़िलिस्तीनी राष्ट्रपति से मुलाक़ात के बाद, ट्रम्प ने कहा कि मैं इस्राईलियों और फ़िलिस्तीनियों के बीच शांति समझौता कराने के लिए प्रयास के लिए प्रतिबद्ध हूं और इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए मैं हर वह सहायता करूंगा जो मैं कर सकता हूं. इस महीने की शुरुआत में ह्वाइट हाउस में ट्रंप और अब्बास की मुलाकात हुई थी.

वहीँ महमूद अब्बास का कहना था कि फ़िलिस्तीन समस्या के समाधान के लिए फ़िलिस्तीनी तथाकथित दो देशों के समाधान को प्राथमिकता देते हैं और वे चाहते हैं कि भविष्य के फ़िलिस्तीन राज्य की राजधानी पूर्वी बैतुल मुक़द्दस हो. अब्बास ने कहा कि हमारी समस्या अतिक्रमण और अवैध नई बस्तियां बसाना है और इस्राईल, फ़िलिस्तीनी राज्य को औपचारिकता प्रदान नहीं कर रहा है. समस्या हमारे और यहूदियों के बीच नहीं है, बल्कि हमारे और अतिक्रमण के बीच है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE