वॉशिंगटन। अमरीका में मुसलमानों को अस्थायी रूप से आने से रोकने के आपे विवादास्पद बयान पर अरबपति कारोबारी डोनाल्ड ट्रंप कायम हैं। ट्रंप अमरीका में राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनने की दौड़ में रिपब्लिकन पार्टी में सबसे आगे चल रहे हैं। उन्होंने अपने रुख के बारे में एक बहस में बताया, जिसके जवाब में उनके प्रतिद्वंद्वी जेब बुश ने आश्चर्य जताते हुए कहा कि भारत और इंडोनेशिया जैसे मजबूत सहयोगियों के मुसलमानों को आने से कैसे रोका जा सकता है।

और पढ़े -   रोहिंग्या हिंसा पर दलाई लामा ने सु को लिखा पत्र, दिया, बुद्ध का हवाला देकर हिंसा रोकने की मांग की

सोशल मीडिया पर वायरल हुए ट्रंप के इस सुझाव पर अब तक एक करोड़ लोग अपनी राय दे चुके हैं। दक्षिण कैरोलिना के चार्ल्स्टन में गुरुवार को राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन दावेदारों की छठी बहस में ट्रंप से पूछा गया कि क्या उन्हें कोई भी ऐसी बात सुनने को मिली है, जिससे उन्हें लगा कि उन्हें मुसलमानों पर अपना बयान वापस ले लेना चाहिए? जवाब में ट्रंप ने कहा नहीं। उन्होंने कहा , ‘हमें राजनैतिक यथार्थ के साथ रुक जाना चाहिए।’

और पढ़े -   40 फीसदी रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार छोड़ कर गए बांग्लादेश पलायन: संयुक्त राष्ट्र

दूसरी तरफ पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश के भाई जेब बुश यह पहले ही कह चुके हैं कि इस तरह का प्रस्ताव रख कर ट्रंप ने खुद का पागलपन साबित किया है। उन्होंने बहस में कहा, ‘सभी मुसलमान? सच में? पूरी दुनिया में इससे कैसा संदेश जा रहा है? तो मतलब यह कि हम भारत के, इंडोनेशिया के मुसलमानों को रोकने जा रहे हैं, उन देशों से संबंध रखने वालों को जो हमारे मजबूत सहयोगी हैं- जिनके साथ हमें बेहतर संबंध बनाने हैं? साफ है बिल्कुल नहीं। हमें आईएस का खत्मा करने की जरूरत है।’

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमो पर आंग सान सु ने तोड़ी चुप्पी कहा, रोहिंग्या म्यांमार में आतंकी हमलो में शामिल, अन्तराष्ट्रीय दबाव नही झुकेंगे


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE