म्यांमार में बड़े पैमाने पर अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय के खिलाफ हिंसा जारी है. जारी हिंसा के बीच मुस्लिम धर्मस्थलों को निशाना बनाया जा रहा है. इस्सी बीच एक अजब मामला सामने आया है.

शुक्रवार को केंद्रीय मंडाले क्षेत्र में बौद्ध धर्म की भीड़ के दबाव के में आकार एक अंडर-बिल्डिंग को ध्वस्त किया गया. दरअसल बौद्ध धर्म के लोग इस इमारत को मस्जिद समझ रहे थे.

और पढ़े -   स्पेन की अदालत ने इजरायल प्रधानमंत्री के खिलाफ जारी किया गिरफ्तारी का आदेश

क्यूक पडाउंग में स्थित दो मंजिला घर के बाहर 100 से अधिक बौद्धों की भीड़ इकट्ठी हुई थी, जो मुस्लिम विरोधी भावना के लिए प्रसिद्ध है. पुलिस ने बताया कि लोगों ने मांग की कि घर को ध्वस्त कर मालिकों के खिलाफ कार्रवाई की जाए.

अधिकारी थै नांग ने बताया कि अनावश्यक समस्याओं के डर के कारण, अधिकारियों ने घर को ध्वस्त करने का निर्णय लिया. गुरुवार रात को घर नष्ट कर दिया था. शहर की विकास समिति के चेयर फायो टिंट खैंग ने बताया कि ये फैसला मुस्लिमो द्वारा शहर में एक मस्जिद के निर्माण की अफवाह के बाद लिया गया था.

और पढ़े -   जानिए: 1967 से मस्जिदुल अक़्सा पर होने वाले प्रमुख इस्राईली हमलो की जानकारी

हालांकि बाद में चला कि गिराया हुआ मकान मस्जिद नहीं था. इस मकान का मालिक कोई बौद्ध व्यक्ति है. जिसके चलते मकान का किसी भी स्थिति में मस्जिद के रूप में इस्तेमाल का भी कयास लगाना गलत है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE