abid

स्वीट्रजलैंड में अदालत ने एक कंपनी के खिलाफ फैसला दिया है जिसने स्कार्फ या हिजाब पहनने के कारण अपनी एक मुस्लिम कर्मचारी को नौकरी से निकाल दिया था.

29 वर्षीय सर्बियाई मूल की अबीदा पिछले 6 साल ड्राई क्लीनिंग के बिज़नस में काम रही कंपनी में थी. लेकिन अचानक आबिदा को हिजाब उतार कर ऑफिस में आने का दबाव डाला गया. कंपनी ने अपनी पालिसी का हवाला देकर हिजाब या नौकरी दोनों में से एक को चुनने को कहा. जिसके बाद जनवरी 2015 में कंपनी ने उन्हें निकाल दिया.

और पढ़े -   एशिया में अमरीकी अपराध, फिलिपीन्स के सेक्स व्यापार में अमरीकी हिस्सेदारी

जिसके बाद आबिदा ने न्याय पाने के लिए अदालत का रुख किया. आखिरकार अदालत से आबिदा को इन्साफ मिल गया. अदालत में कंपनी के इस तरह का बर्ताव को देश के संविधान के खिलाफ बताते हुए जुर्माना लगाने के साथ आबिदा को नौकरी सहित मुआवजा देना का भी आदेश दिया.

अदालत के इस फैसले पर फेडेरेशन ऑफ इस्लामिक ऑर्गेनेजाइशन ने कहा कि “इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, अगर एक औरत स्कार्फ पहनती है या एक यहूदी आदमी kippa पहनता है। काम में, योग्यता को मानदंड रखना चाहिए न कि उसके कपड़े को.

और पढ़े -   सऊदी अरब का मांगों पर बातचीत से इनकार अंतरराष्ट्रीय कानूनों के खिलाफ: क़तर

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE