पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से गुजरने वाले चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे में करीब 50 अरब डॉलर के निवेश के चलते चीन ने कश्मीर समस्या को हल कराने के लिए मध्यस्था की पेशकश की हैं. चीन चाहता है कि कई क्षेत्रीय मामलों पर वह मध्यस्थता की भूमिका निभाये.

चीन के स्टेट मीडिया खबर के मुताबिक, चीन ने हाल ही में म्यांमार और बांग्लादेश के बीच में रोहिंग्या के मुद्दे पर महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है. अब वही तरीका वह भारत और पाकिस्तान के बीच भी अपनाना चाहता है. चीन-पाक इकोनॉमिक कॉरिडोर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा म्यांमार और बांग्लादेश से होकर गुजरता है.

लेख में दावा किया गया है कि ‘चीन ने अन्य देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप ना करने के सिद्धांत का हमेशा पालन किया है, लेकिन इसका यह कतई मतलब नहीं है कि बीजिंग विदेशों में अपने निवेश की रक्षा में चीनी उद्यमों की मांगों पर ध्यान नहीं देगा.’ इसमें कहा गया है, ‘वन बेल्ट, वन रोड’ पर आने वाले देशों में चीन ने भारी निवेश किया है, इसलिए अब भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर विवाद समेत क्षेत्रीय विवाद हल करने में मदद के लिए चीन के निहित स्वार्थ हैं.’

लेख में कहा गया है कि रोहिंग्या मुद्दे को लेकर म्यांमार और बांग्लादेश के बीच हाल ही में चीन की मध्यस्थता क्षेत्रीय स्थिरता बनाए रखने में अपनी सीमाओं से बाहर संघर्षों को हल करने में चीन की बढ़ती क्षमता को दर्शाता है. इसमें कहा गया है, ‘चीन के पास मध्यस्थता के जरिए विवाद सुलझाने की क्षमता है, देश को इस क्षेत्र में भारत समेत अन्य बड़ी शक्तियों से निपटने में बहुत विवेकशील होने की जरूरत है. असल में, कश्मीर मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता करना शायद चीन के लिए विदेशों में अपने हितों की रक्षा करने के लिए क्षेत्रीय मामलों से निपटने में सामने आ रही सबसे मुश्किल चुनौती होगी.’ संभवत: यह पहली बार है कि चीन की आधिकारिक मीडिया ने कश्मीर मुद्दे को हल करने में मध्यस्थता की भूमिका निभाने में बीजिंग के हितों पर बात की है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE