चीन ने स्वीकार किया कि उसने जानबूझ कर सिक्किम में नाथुला के रास्‍ते कैलाश मानसरोवर जाने वाले तीर्थ यात्रियों के लिए पास नहीं खोला था। चीन ने बताया कि उसे बॉर्डर पर फैले तनाव का डर था।

इस बात को स्वीकार करने के बावजूद चीन ने इसके लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया। चीन के रक्षा मंत्रालय ने भारतीय सेना पर आरोप मढ़ते हुए कहा है कि भारत ने चीन की सीमा में परेशानी खड़ी करने की कोशिश की और चीनी इलाके में बनने वाली सड़क के काम में बाधा डाली।

और पढ़े -   चीन-भारत तनाव ईरान पहुंचा, चीनी कंपनी ने सभी भारतीय कर्मचारी को नौकरी से निकाला

इसके अलवा चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्‍ता रेन गोकिंग ने भारतीय सेना पर आरोप लगाते हुए कहा कि उसने सीमा पर दोनों देशों के बीच हुई संधि का उल्‍लंघन किया है, जिस कारण से बॉर्डर पर सुरक्षा को लेकर खतरा बढ़ गया है।

चीनी मंत्रालय ने भारत के खिलाफ बयान जारी कर कहा, ‘भारतीय सेना की तरफ से चीन के क्षेत्र में बनाई जा रही सड़क के निर्माण कार्य को जबरन रोका गया, जिससे सीमा पर तनाव बढ़ गया।’

और पढ़े -   फिलिस्तीनियों के लिए स्वीडिश नागरिक ने शुरू की 4,800 किमी की पैदल यात्रा

इसके साथ ही चीन ने यह भी कहा कि भारत को उसके क्षेत्र में हो रहे किसी भी निर्माणकार्य को रोकने का कोई अधिकार नहीं है और यह नियमों का उल्‍लंघन है।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE