वेटिकन सिटी। फ्रांस की व्यंग्य पत्रिका शार्ली अब्दो आतंकी हमले की पहली बरसी पर प्रकाशित अपने विशेष अंक को लेकर विवादों में घिर गई है। इसके कवर पर गॉड को लेकर प्रकाशित एक कार्टून की वेटिकन अखबार ने निंदा की है। अखबार ने कहा कि यह दुखद और सभी धर्मों के सच्चे आस्तिकों का अपमान है।

शार्ली अब्दो ने अपने दफ्तर पर सात जनवरी, 2015 को हुए आतंकी हमले की पहली बरसी के मौके पर बुधवार को विशेष अंक का प्रकाशन किया है। इस हमले में कार्टूनिस्टों समेत 12 लोगों की हत्या कर दी गई थी। इस पत्रिका ने विशेष अंक के कवर पर गॉड को बंदूकधारी के रूप में दिखाया है। पूरे काले पन्ने पर सफेद रंग में बनाए गए कार्टून में आक्रोशित गॉड के कपड़ों पर खून के धब्बे लगे हैं और पीठ पर एक राइफल है।

इसका शीर्षक है, “एक साल बाद भी हत्यारे पहुंच से दूर।” वेटिकन के दैनिक अखबार लॉओजरवैतर रोमानो ने शार्ली अब्दो पर आस्था के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है। उल्लेखनीय है कि कार्टून के जरिये तीखी आलोचना के लिए मशहूर साप्ताहिक पत्रिका “शार्ली अब्दो” पर आतंकी हमले की यूरोप समेत पूरी दुनिया में निंदा की गई थी। लोगों ने सड़कों पर उतर कर हाथों में कैंडल लेकर मारे गए पत्रकारों को श्रद्धांजलि दी थी।

उस दौरान शार्ली अब्दो के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए लोगों ने “आइ एम शार्ली अब्दो” (मैं हूं शार्ली अब्दो) की तख्तियां ले रखी थीं। इस घटना के बाद पत्रिका की बिक्री 30 हजार से करीब तीन लाख कॉपी प्रति सप्ताह तक पहुंच चुकी है। हालांकि हमले के बाद पत्रिका का दफ्तर गुप्त जगह से काम करता है। हर समय सुरक्षा घेरे में रहता है। यहां काम करने वाले लोगों को दफ्तर के बाहर भी पुलिस सुरक्षा मिलती है। साभार: नई दुनिया


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें