burkini-650_081916030825

फ्रांस में मुस्लिम महिलाओं के बीच लोकप्रिय हुई बुरकिनी की बिक्री पाबंदी के बाद 200 प्रतिशत तक बढ़ गई. बुरकिनी का ईजाद करने वाली ऑस्ट्रेलिया की अहेदा जनेट्टी का कहना है कि फ्रांस में प्रतिबंध लगने के बाद बुरकिनी की ऑनलाइन बिक्री 200 प्रतिशत बढ़ गई है. साथ ही 45 प्रतिशत बुरकिनी के खरीदार गैर मुस्लिम है

2004 में लेबनन मूल की एक ऑस्ट्रेलियाई महिला अहिदा जानेटी ने डिजाइन किया जब उसने अपनी भतीजी को हिजाब पहनकर नेटबॉल खेलते देखा. तब अहिदा को ये ख्याल आया कि क्यों न कुछ ऐसा बनाया जाए जो इस्लामी कल्चर के खिलाफ भी न हो और मॉर्डन दुनिया की जरूरतों की पूर्ति भी करता हो.

और पढ़े -   रोहिंग्या नरसंहार के चलते ब्रिटेन ने म्यांमार सेना को दी जाने वाली मदद पर लगाई रोक

फिर उन्होंने उन मुस्लिम महिलाओं के लिए भी ड्रेस डिजाइन किए जो सिडनी के समुद्री किनारों का लुत्फ तो लेना चाहती थी लेकिन बिकनी में नहीं! यही से बुरकिनी का कॉन्सेप्ट आया.

ज़ानेट्टी कहती हैं कि मैंने बुरकिनी तैयार करते समय मेरे दिमाग में ये था कि मैं कोई ऐसा वस्त्र बनाऊं ताकि मुस्लिम महिलाएं ऑस्ट्रेलिया में समंदर किनारे की लाइफस्टाइल में रच-बस सकें. खुद को अटपटा ना महसूस करें

और पढ़े -   व्हाट्सअप पर इस्लाम के लिए अपमानजनक सन्देश भेजने वाले को मिला मृत्युदंड

अहेदा के अनुसार, “दुनिया का कोई मर्द तय नहीं कर सकता कि हम क्या पहने और क्या ना पहनें.”


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE