लाखों की संख्या में अपनी जान बचाकर पहुँच रहे रोहिंग्या मुस्लिमों को बांग्लादेश ने बसाने के लिए एक सुदूर द्वीप का चयन किया है. हालांकि यह द्वीप बाड़ की चपेट में रहता है.

बांग्लादेश सरकार ने रोहिंग्या मुस्लिमों को उस द्वीप पर पहुंचाने की तैयारियां शुरू कर दी है. हालांकि इसके लिए उसने अंतराष्ट्रीय समुदाय से मदद की गुहार लगाई है.

एक अनुमान के मुताबिक़ लगभग तीन लाख शरणार्थी पहले से ही म्यामांर सीमा के निकट कॉक्स बाजार जिले में संयुक्त राष्ट्र के शिविरों में रह रहे हैं. बावजूद इसके बड़ी संख्या में रोहिंग्याओं का आना जारी है.

संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों ने गैर आबादी वाले थेनगार छार द्वीप पर शिविर बनाने पर अनिच्छा जाहिर की. फिर भी बांग्लादेश इसी द्वीप पर रोहिंग्या को बसाने जा रहा है.

इस द्वीप का हाल में नाम बदलकर भासान छार किया गया था. दरअसल कॉक्स बाजार के शिविरों में जगह नहीं बची है. ऐसे में सरकार रोहिंग्या को शरण देने के लिए नए जगह तलाश कर रही है.

इसी के साथ म्यामांर सीमा के निकट कॉक्स बाजार के करीब दो हजार एकड़ (800 हेक्टेयर) क्षेत्र में एक नया शिविर स्थापित करने की भी योजना है, जिसमें लगभग दो लाख 50 हजार रोहिंग्या मुस्लिम रह सकेंगे.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE