संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव बान की मून ने पश्चिम के धनी देशों की निंदा करते हुए कहा कि मानव संकट बहुत भयानक रूप ले चुका है अब तत्काल सुधार क़दम उठाने की ज़रूरत है।

बान की मून ने पश्चिमी देशों की आलोचना इस लिए की कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ की ओर से आयोजित अंतर्राष्ट्रीय शिखर सम्मेलन में उच्च पदस्थ प्रतिनिधि नहीं भेजे। बान की मून ने कहा कि इस समय मानव संकट एसी स्थिति में पहुंच चुका है कि जिसका उदाहरण संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना के बाद से अब तक कभी नहीं देखा गया।

इस सम्मेलन का आयोजन बान की मून की ओर से तुर्की के इस्तांबूल शहर में किया गया जिसमें लगभग 9 हज़ार लोगों ने भाग लिया। संयुक्त राष्ट्र संघ का कहना है कि मानवीय सहयता के लिए ज़रूरी 20 अरब डालर की केवल 18 प्रतिशत रक़म ही अब तक प्राप्त हो सकी है।

सम्मेलन तुर्की में हो रहा है और कुछ हलक़े इस सम्मेलन के तुर्की में आयोजन से नाराज़ हैं क्योंकि तुर्की में सरकार अपने विरोधी राजनैतिक व सामाचारिक गलियारों पर हमले कर रही है और उसने शरणार्थियों का रास्ता रोकने के लिए सीरिया से मिलने वाली अपनी सीमा बंद कर दी है।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें