क़तर ने सऊदी अरब और उसके सहयोगी देशों पर कुवैत की और से की जाने वाली मध्यस्थता को बिगाड़ने का आरोप लगाया है.

क़तर के विदेशमंत्री मुहम्मद बिन अब्दुर्रहमान आले सानी ने मंगलवार को दोहा में अमरीका के विदेशमंत्री रेक्स टेलरसन से मुलाक़ात के बाद कहा कि वर्ष 2014 में फ़ार्स की खाड़ी के देशों और क़तर के बीच होने वाले रियाज़ समझौते के अनुच्छेदों का लीक होना, वर्तमान संकट के समाधान के लिए कुवैत की मध्यस्थता के महत्व को कम करने का खुला प्रयास है.

उन्होंने कहा कि क़तर, रियाज़ समझौते पर पूरी तरह प्रतिबद्ध है और सऊदी अरब, बहरैन और संयुक्त अरब इमारत समझौते का उल्लंघन कर रहे हैं. वहीँ अमेरिकी विदेशमंत्री रेक्स टेलरसन ने कहा कि दोनों पक्षों की ज़िम्मेदारी है कि वह आतंकवाद के वित्तीय समर्थन को रोकें और इस संबंध में आपसी सहयोग करें.

हालांकि इस दौरान क़तर, अमरीका और फ़ार्स की खाड़ी के देशों ने आतंकवाद से संघर्ष के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं. टेलरसन के इस दौरे का उद्देश्य, क़तर और चार अरब देशों के मध्य तनाव को समाप्त कराना है.

अमरीकी विदेशमंत्री के वरिष्ठ सलाहकार आर सी हेमंड का कहना है कि सहमति पत्र, आतंकवाद के विरुद्ध युद्ध में अपनी क्षमता सिद्ध करने के लिए क़तर की ओर से भविष्य में किए जाने वाले प्रयासों और आतंकवाद के लिए फ़ंडिंग से जुड़े मामलों से संबंधित है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE