56

अमेरिका में अश्वेत सदियों से भेदभाव और अत्याचार का सामना क्र रहे हैं. दुनिया भर को मानवाधिकार पर नसीहत देने वालें अमेरिका में अश्वेत और अल्पसंख्यकों पर भेदभाव के कारण राष्ट्रगान का बहिष्कार किया जा रहा हैं.

असोशिएटेड प्रेस अनुसार, अमरीकी रगबी की एक बड़ी लीग के खिलाड़ी कोलिन कैपरनिक ने अत्याचार पर विरोध जताते हुए अमरीकी खेल से पहले राष्ट्रगान के अवसर पर खड़े होने से इन्कार कर दिया.

और पढ़े -   ओआईसी महासचिव ने इस्लामिक एकता को लेकर दिया जोर

कोलिन कैपरनिक ने कहा, “मैं अश्वेतों सहित दूसरे वर्ण के लोगों का दमन करने वाले देश के झंडे के नीचे खड़े होकर गर्व ज़ाहिर नहीं करना चाहता. मेरी निगाह में यह बात रगबी से अधिक अहमियत रखती है। सड़क पर शव पड़े हुए हैं और लोग तनख़्वाह के साथ छुट्टी पा रहे हैं और क़त्ल करके बच निकल रहे हैं.

कैपरनिक शुक्रवार की रात राष्ट्रीय गान के समय टीम की बेंच पर बैठे रहे जिसके बाद उनकी टीम को ग्रीन बे पैकर्ज़ के साथ एक नुमाइशी गेम खेलना था. बाद में उन्होंने एनएफ़एल मीडिया के साथ इंटर्व्यू में अपने इस विरोध का कारण बताया. वह अपने ट्वीटर अकाउंट पर नागरिक अधिकार के मुद्दों और अश्वेत लोगों के समर्थन में जारी ब्लैक लाइव्ज़ मैटर अभियान के बारे में खुल कर अपने विचार व्यक्त करते हैं.

और पढ़े -   भारतीय मूल की रिहाना बनी ब्रिटेन में पहली महिला पार्षद
महमूद अब्दुर्रऊफ़ अफ़्रीक़ी अमरीकियों के ख़िलाफ़ अत्याचार के प्रतीक अमरीकी ध्वज को अपनाने से इंकार करने के लिए अमरीकी राष्ट्रगान के दौरान दुआ करते हुए

गौरतलब रहें कि 1996 में बासकेट बॉल के खिलाड़ी महमूद अब्दुर्रऊफ़ ने भी राष्ट्रगान के अवसर पर खड़े होने से इन्कार करते हुए कहा था कि अमरीका का इतिहास अत्याचारों से भरा हुआ है और ऐसा करना उनकी इस्लामी आस्था के ख़िलाफ़ है


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE