क़तर पर आतंकवाद के समर्थन का आरोप लगाकर सऊदी अरब और उसके सहयोगी देशों को भड़काने वाले अमेरिका ने अब इस मुद्दे पर सऊदी अरब का साथ छोड़ दिया है. अमेरिका ने दो टूक में साफ़ कर दिया कि वह क़तर के साथ अपने रिश्तें नहीं खत्म करेगा.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि ऐसे समय में जब सऊदी अरब और उसके सहयोगी अरब देशों ने दोहा पर व्यापक प्रतिबंध लगा रखे हैं, अमरीका क़तर से अपने सैन्य एयरबेस को किसी अन्य देश में स्थानांतरित नहीं करेगा. उन्होंने कहा, क़तर के साथ किसी भी हालत में सबंध समाप्त नहीं होंगे. हम क़तर के साथ अच्छे संबंध बनाए रखेंगे और वहां हमारे एयरबेस को किसी समस्या का सामना नहीं है.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों की मदद के लिए आगे आया सऊदी, शाह सलमान ने दी 15 मिलियन डॉलर की मदद

ध्यान रहे सऊदी अरब और उसके सहयोगी देशों ने अमेरिका के कहने पर ही क़तर पर प्रतिबंध लगाकर अपने रिश्तें खत्म किये थे. इस बारें में ट्रम्प ने कहा था कि दोहा के ख़िलाफ़ सऊदी अरब ने यह क़दम उनसे हरी झंडी मिलने के बाद उठाया है.

गौरतलब रहें कि क़तर स्थित अलउदैद एयरबेस में अमरीका के 10,000 हज़ार से ज़्यादा सैनिक हैं और यह विदेश में अमरीका का सबसे बड़ा एयरबेस है.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमो पर आंग सान सु ने तोड़ी चुप्पी कहा, रोहिंग्या म्यांमार में आतंकी हमलो में शामिल, अन्तराष्ट्रीय दबाव नही झुकेंगे

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE