ईवीएम मशीनों की विश्वसनीयता पर देश में ही सवाल उठ रहे थे लेकिन अब अफ़्रीकी देशों ने भी भारत में बनी ईवीएम की विश्वसनीयता पर पर सवाल खड़े कर दिए है. दरअसल बोत्सवाना ने 2019 में होने वाले आम चुनाव में भारत से आयात ईवीएम का इस्तेमाल होना था.

न्यूज़ 18 की एक खबर के अनुसार बोत्सवाना की सरकार भारत में ईवीएम बनाने वाली कंपनी से समझौता करने वाली है और अपने देश की जरूरतों के मुताबिक ईवीएम का निर्माण करवाने के विषय में सोच रही है. लेकिन विपक्ष की और से इसकी विश्वसनीयता पर शंका जाहिर की गई है.

और पढ़े -   मुस्लिम विरोधी सांसद ने ऑस्ट्रेलियाई संसद में बुर्का पहनकर मचाया हंगामा

ऐसे में अब विपक्षी पार्टियों की आशंका को दूर करने के लिए बोत्सवाना के चुनाव आयोग ने हैकिंग एक्सपर्ट को बुलाया है और चुनौती दी है कि इन ईवीएम को हैक कर दिखाये. बोत्सवाना चुनाव आयोग ने इलेक्ट्रानिक्स और हैकिंग के एक्सपर्ट को आमंत्रित किया है.

गौरतलब रहें कि भारत में दो सरकारी कंपनियां भारत इलेक्ट्रानिक लिमिटेड, और इलेक्ट्रानिक्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडियन लिमिटेड ईवीएम का निर्माण करती है. हाल में खत्म हुए विधानसभा चुनावों के बाद दिल्ली की आम आदमी पार्टी, कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी समेत कई दलों ने ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए हैं.

और पढ़े -   शाह सलमान ने कत्तरी हाजियों के लिए सलवा बॉर्डर को खोलने का दिया आदेश

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE