म्यांमार के राखिन प्रांत में रहने वाले रोहिंग्या समुदाय की कुल आबादी का 40 फीसदी हिंसा के चलते बांग्लादेश पलायन कर चुकी है. इस बात की जानकारी सयुंक्त राष्ट्र ने दी है.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा कि 25 अगस्त के बाद से अब तक म्यांमार सीमा पार करके बांग्लादेश जाने वाले रोहिंग्या शरणार्थियों की संख्या 389,000 को पार कर गई है.

और पढ़े -   मीडिया पर ढेरों पाबंदी, फिर भी पश्चिम के लिए इजरायल एक लोकतांत्रिक देश

उन्होंने कहा, ‘‘पिछले 24 घंटे में 10,000 लोगों के बांग्लादेश जाने की खबर है. गत वर्ष अक्तूबर में राखिन प्रांत में हिंसा के दौरान वहां से भागने वाले लोगों की संख्या मिलाकर इस प्रांत में रहने वाले रोहिंग्या आबादी के करीब 40 फीसदी लोग अब तक बांग्लादेश जा चुके हैं.’’

दुजारिक ने कहा, ‘‘पहले से मौजूद शरणार्थी शिविरों में शरणार्थी रह रहे हैं और अब वहां पहुंचने वाले नए शरणार्थियों को जहां भी जगह मिल रही है, वे वहीं रह रहे हैं.’’

और पढ़े -   अमेरिकी राष्ट्रपति ने सयुंक्त राष्ट्र से रोहिंग्या के लिए 'मजबूत और तेज' कार्रवाई का आग्रह किया

जारिक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से शरणार्थी पुरुषों, महिलाओं और बच्चों की मदद करने के लिए तुरंत एकजुट होने का अनुरोध किया है. उन्होंने कहा, ‘‘बच्चों की संख्या काफी अधिक है, इन सभी की तुरंत मदद करने की जरुरत है.’


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE