फ़रहादिजा

बोस्निया की फ़रहात पाशा मस्जिद जिसको फ़रहादिजा के नाम से भी जाना जाता है को शनिवार को दोबारा खोला गया हैं. इस मस्जिद को 1992-1995 युद्ध में सर्बो ने नष्ट कर दिया था. ये मस्जिद बंजा लुका के 16 और देशों की 534 मस्जिदों में से एक है जिसे बोस्नियाई सर्बों ने नष्ट करने की कोशिश की थी. मस्जिद के तीन हज़ार पांच सौ टुकड़ों को इकट्ठा कर मस्जिद के हिस्सों में दोबारा लगाया गया. इसके पुनर्निर्माण में 15 साल का वक़्त लगा गया.

शनिवार को फ़रहादिजा मस्जिद गिराने की 23वीं बरसी के मौके पर बोस्नियाई सर्ब अधिकारियों ने इस समारोह की सुरक्षा के लिए हज़ार से ज़्यादा पुलिसवालों को तैनात किया था. इस समारोह में तुर्की के निवर्तमान प्रधानमंत्री, बोस्नियाई नेता, विदेशी राजदूत और रोमन कैथोलिक, सर्ब रूढ़िवादी चर्च और यहूदी समुदाय के प्रतिनिधियों ने शिरकत की.

फ़रहादिजा

1995 में एक लाख़ से ज्यादा लोगों की हत्या के बाद एक शांति समझौते ने देश को दो हिस्सों में बांट दिया. समझौते में शरणार्थियों को अपने पुराने घरों में लौटने और फ़रहादिजा मस्जिद के दोबारा निर्माण की गारंटी दी गई थी. तथाकथित ‘जातीय सफ़ाई’ योजना के तहत रोमन कैथोलिक क्रोएट्स और गैर-सर्ब भी निशाना बनाए गए थे. उन्हें घर से निकालने, संपत्ति लूटपाट, कुछ की हत्या और कुछ को अलग शिविरों में रखने जैसी यातनाएं दी गईं थी. धरोहरों को नुक़सान पहुंचाकर सर्ब चाहते थे कि ये लोग दोबारा अपने घर न लौटे.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें