irfan

बॉलीवुड अभिनेता इरफ़ान खान ने बुधवार को ईद-उल-जुहा को लेकर एक विवादित बयान दिया हैं. आने वाली फिल्म ‘मदारी’ के प्रमोशनल इवेंट में उन्होंने कहा कि कुर्बानी का मतलब अपनी कोई अजीज चीज कुर्बान करना होता है. ये नहीं कि बाजार से आप कोई दो बकरे खरीद लाए और उनको कुर्बान कर दिया.

उन्होंने आगे कहा कि आपको उन बकरों से कोई लेना-देना नहीं है तो वो कुर्बानी कहां से हुई? इससे कौन-सी दुआ कुबूल होती है? हर आदमी अपने दिल से पूछे कि किसी और की जान लेने से उसको कैसे पुण्य मिल जाएगा ? इरफान ने अपनी बात जारी रखते हुए कहा कि हमारे जो भी त्योहार हैं, उनका मतलब हमें वापस से समझना चाहिए कि वे किसलिए बनाए गए हैं। सौभाग्य है कि एेसे देश में रह रहा हूं जहां हर धर्म का सम्मान होता है.

और पढ़े -   हैदराबाद क्रिकेट संघ लोढ़ा समिति के सुझावों पर नहीं कर रहा अमल: अजहरुद्दीन

सलमान खान के रेप विक्टिम के बयान पर इरफ़ान ने कहा कि सेलिब्रिटी भी इंसान हैं. उससे भी गलती हो सकती है आप उसे महान मत समझिए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE