बॉलीवुड अदाकारा शबाना आजमी ने ट्रिपल तलाक को अमानवीय करार देते हुए इस पर प्रतिबन्ध की बात कही है. उन्होंने कहा कि तीन तलाक अमानवीय प्रथा है और मुस्लिम महिलाओं के बुनियादी अधिकारों का उल्लंघन करता है.

शबाना ने कहा, ‘तीन तलाक अमानवीय है और हर मुस्लिम महिला के मूलभूत अधिकारों का उल्लंघन करता है.’ उन्होंने कहा, ‘तीन तलाक प्रणाली पूरी तरह अमानवीय है और मुस्लिम महिलाओं को समानता या सशक्तिकरण के उनके अधिकार से वंचित करती है.’

इसी के साथ उन्होंने कहा, कुरान में भी इसका जिक्र नहीं है और इसक मतलब ये है कि कुरान भी तीन तलाक प्रथा की अनुमति नहीं देता है. शबाना आजमी ने कहा कि तीन तलाक प्रथा को जल्द से जल्द खत्म किया जाना चाहिए और इसके बारे में दो राय हो ही नहीं सकती है.

महिला सशक्तिकरण पर उन्होंने कहा कि बेशक आज महिलाएं हर क्षेत्र में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर अपना परचम लहरा रही हैं लेकिन आज भी समाज में बेटा-बेटी के फर्क को माना जाता है. बेटियों को बेटों के समान अधिकार तो दिए जाते हैं लेकिन उन अधिकारों को इस्तेमाल करने के मौके नहीं दिए जाते और न ही उन्हें बेटों के समान बराबरी का दर्जा मिलता है. जब तक समाज की सोच में बदलाव नहीं होगा तब तक उन्नति की डगर भी धीमी ही रहेगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE